पतंजलि और अडाणी के बीच क्यों हुआ घमासान ?

देश की सबसे बड़ी खाद्य तेल निर्माता कम्पनी रूचि सोया को  खरीदने के लिए कोर्पोरेट घमासान लगातार बढ़ता दिख रहा है। रूचि सोया को हाल ही में दिवालिया घोषित कर दिया गया है। योग गुरु रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद ने दिवालियापन कानून के तहत एक नियम का हवाला देते हुए दावा किया है कि अदानी विल्मर, दिवालियापन की कार्यवाही से गुज़र रही रुची सोया के लिए बोली लगाने योग्य नहीं है। गौरतलब है कि अदानी विल्मर गौतम अदानी के नेतृत्व वाले बहुराष्ट्रीय अदानी समूह का हिस्सा है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि गौतम अदानी के भतीजे और अदानी विल्मर के प्रबंध निदेशक प्रणव अदानी का विवाह रोटोमैक समूह के पूर्व प्रमोटर विक्रम कोठारी की बेटी नम्रता से हुआ था, कोठारी को फरवरी में सीबीआई ने ऋण धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार किया था । मालूम हो कि अदानी विल्मर, अदानी समूह और सिंगापुर के विल्मार इंटरनेशनल के बीच 50:50 फीसद का संयुक्त उद्यम है।

दिवालियापन और दिवालियापन संहिता (आईबीसी) की धारा 29 के अनुसार, अगर बोली लगाने वाली कम्पनी का सम्बंध किसी अन्य ऋण के तले दबी कंपनी से हो तो कंपनी को कॉर्पोरेट दिवालियापन समाधान प्रक्रिया (सीआईआरपी) के तहत दिवालिया प्रस्ताव योजना की पेशकश करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।

आईबीसी ने हाल ही में दिवालिया कम्पनी से ‘सम्बंध’ रखने की परिभाषा को संशोधित  कर उसमें रिश्तेदारों को भी शामिल कर लिया है। 6 जून को राष्ट्रपति द्वारा अनुमोदित एक अध्यादेश ने अन्य पारिवारिक संबंधों में “संबंधित पार्टी” और “रिश्तेदार” जैसे पति, पत्नी, पिता, मां और ससुराल वालों को भी शामिल कर लिया है ।

क्यूँकि पतंजलि और अदानी विल्मार दोनों ने रुची सोया के लिए अपनी बोलियां और संकल्प योजनाएं संशोधन के पहले ही जमा कर दी थी इसलिए यह स्पष्ट नहीं है कि पात्रता के मानदंड इस मामले में पूर्ववर्ती रूप से लागू होगें या नहीं।पतंजलि के द्वारा पूछे जाने वाले स्पष्टीकरणों के जवाब देने के लिए रिज़ोल्युशन प्रोफेशनल (आरपी) ने कम से कम 8 से 10 दिनों की मांग की है।

रुची सोया भारत की सबसे बड़ी खाद्य तेल निकासी और रिफाइनिंग कंपनी है, वहीं दिसंबर 2017 में इसे सीआईआरपी में शामिल किया गया था। रुची सोया पर वित्तीय लेनदारों की 104 अरब रुपये और परिचालन लेनदारों की 36 करोड़ रुपये की लेनदारी है । लेकिन कंपनी की अभी भी 13 स्थानों पर 37.  2 लाख टन तेल बीज निष्कर्षण क्षमता और 13 स्थानों में 33 लाख टन रिफाइनिंग क्षमता है।

बिजनेस स्टैंडर्ड के मुताबिक, उधारकर्ताओं की समिति (सीओसी) ने 20 जून को बोलियों के साथ-साथ दोनों कंपनियों द्वारा संकल्प योजनाओं पर चर्चा करने के लिए मुलाकात की थी।

12 जून को अदानी विल्मर को पसंदीदा (एच 1) बोलीदाता(बोली लगाने वाला) घोषित किया गया था, जबकि पतंजलि को दूसरी पसंदीदा (एच 2) बोलीदाता घोषित किया गया था। अदानी विल्मार ने 54.74 बिलियन रुपये की बोली पेशकश की, जिसमें से 43 बिलियन उधारदाताओं को मिलेगा। कंपनी 17 अरब रुपये का इक्विटी निवेश भी करेगी। पतंजलि ने 57.65 अरब रुपये का बोली प्रस्ताव दिया, लेकिन उधारदाताओं को केवल 40.65 अरब रुपये मिलेगा। इन दो कंपनियों के लिए लड़ाई को कम करने से पहले, गोदरेज एग्रोवेट और इमामी एग्रोटेक भी मैदान में कूद पड़े।

अदानी को पसंदीदा बोली लगाने वाला घोषित करने के बाद, पतंजलि को तथाकथित स्विस चैलेंज सिस्टम के तहत एक संशोधित बोली लगाने का मौका दिया गया था। लेकिन पतंजलि ने आईबीसी की धारा 29ए का हवाला देते हुए अदानी की पात्रता के बारे में इस सवाल को उठाया और लेनदारों की समिति को भेजे गए एक पत्र में स्पष्टीकरण मांगा।

इससे पहले, पतंजलि ने इस तथ्य से उत्पन्न हितों के संघर्ष के बारे में आपत्ति जताई थी कि कानून फर्म सिरिल अमरचंद मंगलदास (सीएएम) को आरपी के कानूनी सलाहकार नियुक्त किया गया था, जबकि फर्म पहले ही अदानी विल्मर का प्रतिनिधित्व कर रही थी। नतीजतन, यह हुआ है कि सीएएम अदानी विल्मार को छोड़ रुची सोया का पक्ष रखेगी।

असल में, पतंजलि के पास रुची सोया के साथ मौजूदा मार्केटिंग टाई-अप है और अब वह अपने तेल के कारोबार को बढ़ाने के लिए उत्सुक है। रुची सोया के ब्रांडों में नटरेला,महाकोश,सनरिक, रुची स्टार और रुची गोल्ड जैसे लोकप्रिय और प्रतिष्ठित नाम शामिल हैं। अदानी विल्मार वर्तमान में फॉर्च्यून ब्रांड के साथ बाज़ार में मौजूद है।

इसी साल फरवरी में, सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशंस (सीबीआई) ने रोटोमाक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड के प्रमोटर-डायरेक्टर विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठारी को बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा, कथित ₹ 3,695 करोड़ रुपये  ऋण डिफ़ॉल्ट मामले में गिरफ्तार किया था । कोठारी पर सात सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के एक संघ को धोखा देने का आरोप है।

ऐसा नहीं है कि पतंजलि की अपनी स्थिति पाक साफ है। रामदेव और उनकी हरिद्वार स्थित एफएमसीजी  कंपनी, जिसका 2017 के वित्तीय वर्ष  में सालाना कारोबार 10,561 करोड़ दर्ज किया गया था के ऊपर कई भ्रष्टाचार के आरोप लग चुके है। गौरतलब है कि रामदेव को भूमि आवंटन में 46 मिलियन डॉलर की और बीजेपी की अगुवाई वाले राज्यों में सरकारों से छूट मिली है। आचार्य बालकृष्ण, जो रामदेव के करीबी सहयोगी हैं और पतंजलि के शेयरों के  9 4% हिस्सेदार हैं, को हूरुन इंडिया रिच लिस्ट द्वारा सितंबर 2017 में 70,000 करोड़ रुपये की निजी संपत्ति के साथ 8 वां सबसे अमीर भारतीय घोषित किया गया था।वहीं अदानी साम्राज्य का विस्तार व्यापक रूप से ज्ञात है और वह इतना विशाल है उसका अनुमान लगाना भी मुशकिल है।

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful