Almora's Billiard Center became the site of drug addicts and gambling

अल्मोड़ा के बिलियर्ड केंद्र बने नशेबाजी और जुआरियों के अड्डे

अल्मोड़ा: धारानौला में स्थित एक बिलियर्ड सेंटर में जांच को पहुंची पुलिस टीम पर हमले की घटना के बाद नगर के बिलियर्ड सेंटर एक बार फिर चर्चा में हैं। लोगों का कहना है कि कई बिलियर्ड सेंटर नगर का माहौल बिगाड़ रहे हैं। कुछ बिलियर्ड सेंटरों में नशापान की शिकायतें मिल रही हैं वहीं कई बिलियर्ड केंद्र जुए के अड्डे बन गए हैं। बताया गया है कि बिलियर्ड सेंटरों में आने वाले युवा जीत-हार पर 500 से लेकर हजार रुपये तक की बाजी लगाते हैं।

बिलियर्ड केंद्रों में नशेबाजी और जुआ आदि पनपने की शिकायतें मिलने पर बीते दिनों पुलिस ने सभी बिलियर्ड सेंटरों में सीसीटीवी लगाना अनिवार्य कर दिया है। पुलिस ने बताया कि बिलियर्ड सेंटरों के संचालकों को बिलियर्ड खेलने आने वाले हर व्यक्ति का नाम पता, आने-जाने का समय एक रजिस्टर में दर्ज करने की हिदायत दी गई है, लेकिन कई बिलियर्ड संचालक इसका पालन नहीं कर रहे हैं। यह भी शिकायतें मिली हैं कि गलियों में चलने वाले कई बिलियर्ड सेंटरों में संचालकों ने बोर्ड तक नहीं लगाए हैं। जहां देर रात तक युवा बिलियर्ड खेलते रहते हैं। इनमें नियमों का पालन भी नहीं हो रहा है। इधर नगर के प्रबुद्ध लोगों का कहना है कि बिलियर्ड केंद्रों में चलने वाली गति विधियों को देखते हुए यहां कम से कम इंटरमीडिएट तक के बच्चों के प्रवेश पर रोक लगनी चाहिए।

स्कूली बच्चों के लिए  बिलियर्ड  केंद्रों में जाने पर पाबंदी लगानी चाहिए।  बिलियर्ड जाने वाले बच्चों का व्यवहार बदल जाता है। बच्चों को इस बात का ज्ञान नहीं होता है कि क्या सही है और क्या गलत है। बच्चे बहकावे में आकर गलत दिशा में चले जाते हैं। यहां जाने वाले बच्चों पर नजर रखनी चाहिए। पुलिस प्रशासन को बिलियर्ड  केंद्रों में समय-समय पर छापेमारी की कार्रवाई करनी चाहिए।  
पूरन चंद्र तिवारी, जिला संयोजक बंधुआ मुक्ति मोर्चा अल्मोड़ा। 

बच्चों और युवकों में नशाखोरी तेजी से बढ़ रही है। इस पर नियंत्रण लगाने की जरूरत है। स्कूली बच्चे बिलियर्ड की ओर काफी आकर्षित हो रहे हैं। अभिभावकों को बच्चों की दिनचर्या पर नजर रखनी चाहिए। बिलियर्ड में खेल के दौरान नशाखोरी पर पुलिस को पैनी निगाह रखनी होगी। इस मामले में बिलियर्ड संचालकों को भी ध्यान देने की जरूरत हैै।  
प्रकाश चंद्र जोशी, शिक्षाविद् और पूर्व पालिकाध्यक्ष अल्मोड़ा।

अगर बच्चे बिलियर्ड केंद्र जा रहे हैं तो इसकी जानकारी माता-पिता को होनी चाहिए। यदि बच्चे बिलियर्ड में जाते हैं तो उनका रजिस्ट्रेशन होना चाहिए।  छोटे-छोटे बच्चे बिलियर्ड की ओर आकर्षित हो रहे हैं। भले की बिलियर्ड खेल है लेकिन इसकी आड़ में बच्चों को नशे का आदी बनाया जा रहा है।  बिलियर्ड सेंटरों में नशा करने वाले और कराने वालों पर जुर्माना ठोकना चाहिए।  
लियाकत अली, क्रिकेट कोच अल्मोड़ा। 

शहर में स्थित जिन  बिलियर्ड  केंद्रों में नशाखोरी हो रही है उनको बंद कर देना चाहिए। माता-पिता और आम नागरिकों को यदि कोई बच्चा  बिलियर्ड  में गलत गतिविधि करते हुए नजर आता है तो इसकी जानकारी तुरंत पुलिस को देनी चाहिए। बच्चों को नशे का आदी बनाने वालों पर पुलिस को शिकंजा कसना चाहिए।  
प्रो. प्रवीण बिष्ट, अधिष्ठाता छात्र कल्याण एसएसजे परिसर अल्मोड़ा।

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful