उत्तराखंड में 9 गुलदारों को मिला आजीवन कारावास!

उत्तराखंड से एक रोचक खबर सामने आ रही है. जहां जानवरों को भी उम्रकैद हो सकती है. ऐसा ही एक मामला हरिद्वार के पास चिड़ियापुर में स्थित रेस्क्यू और पुनर्वास सेंटर में ऐसे ही 9 गुलदार हैं, जोकि आजीवन कारावास की तरह अपनी सजा काट रहे हैं. वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उनकी आगे की उम्र इसी पुनर्वास सेंटर में गुजरेगी. फिलहाल, वे अब ना जंगल देख पाएंगे और ना ही खुली आजादी से घूम पाएंगे. इसलिए उनको वहां पर कैद करके रखा गया है. बता दें कि, यहां इंसानी कत्ल या फिर इंसानी बस्ती में घुसने के जुर्म में नौ गुलदारों को जेल में रखा गया है.

मंगलवार को 9 जानवर रखते हैं ‘उपवास’

वहीं, रूबी नाम की मादा गुलदार पिछले सात सालों से सजा काट रही है. इन्हें दिन के उजाले में कुछ घंटे के लिए खुले बाड़े में छोड़ा जाता है और फिर पिंजरें में कैद कर दिया जाता है. जहां हफ्ते में एक दिन चिकन, एक दिन मटन और एक दिन मोटा मांस खाने को दिया जाता है. मगर, मंगलवार को नौ के नौ कैदियों को उपवास रखना होता है. इस दौरान रूबी को साल 2015 में इंसान के कत्ल के आरोप में पकड़ा गया था, जब वो महज 6 साल की थी. वहीं, 13 साल के आदमाखोर रॉकी को 2017 में टिहरी के संतला गांव से पकड़ा गया था. इनकी जिंदगी एक सजायाफ्ता कैदी जैसी ही है.

चीफ वार्डन बोले- गुलदार दूसरे की जान के लिए बने खतरा

इस दौरान वन विभाग का कहना है कि इनमें से कई गुलदारों के दांत तक टूटे हुए हैं, साथ ही कुछ की आंखों और पैरों में भी चोट है. जिसके चलते वे अब जंगल में नहीं रह सकते. इस मामले में चीफ वाडल्ड लाइफ वार्डन डा. समीर सिन्हा ने बताया कि इन जानवरों को पकड़कर कैद कर रखा जाता है. ऐसे में कुछ आदमखोर हो गए हैं. इसके अलावा कुछ अपंग भी हो गए हैं, जिससे इनका जंगल में खतरें से खाली नहीं है. साथ ही ये दूसरे की जान के लिए भी खतरा बने हुए है.

About न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful