भारत में विदेशी निवेश की व्यापक संभावनाएं

दावोस। निवेशकों की निगाह में भारत का आकर्षण बढ़ रहा है। पिछले साल के मुकाबले एक पायदान सुधरकर भारत निवेश के लिहाज से पांचवां सबसे आकर्षक बाजार बन गया है। इसके साथ ही ग्लोबल स्तर पर कारोबारी आशावाद (बिजनेस ऑप्टिमिज्म) भी यहां रिकॉर्ड स्तर पर है। हालांकि, साइबर सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन चिंता की वजह बने हुए हैं। ग्लोबल एडवाइजरी फर्म पीडब्ल्यूसी ने दुनियाभर के सीईओ के बीच कराए गए सर्वेक्षण में यह बात कही है।

सर्वेक्षण के मुताबिक, 2018 में जापान को पछाड़कर भारत पांचवा सबसे आकर्षक बाजार बन गया है। 2017 में भारत छठे स्थान पर था। दुनियाभर के 46 फीसद सीईओ के समर्थन के दम पर निवेश के लिहाज से अमेरिका सबसे पसंदीदा बाजार बना हुआ है। इसके बाद चीन (33 फीसद), जर्मनी (20 फीसद), ब्रिटेन (15 फीसद) और भारत (नौ फीसद) को क्रमशः दूसरा, तीसरा, चौथा और पांचवां स्थान मिला है।

पीडब्ल्यूसी इंडिया के चेयरमैन श्यामल मुखर्जी ने कहा कि निश्चित संरचनात्मक सुधारों के चलते पिछले एक साल में भारत की स्थिति बेहतर हुई है। ज्यादातर कारोबारी विकास को लेकर आश्वस्त हैं। बुनियादी ढांचा, मैन्यूफैक्चरिंग और कौशल जैसे क्षेत्रों से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए सरकार ने प्रयास किए हैं। हालांकि, इस बीच साइबर सुरक्षा और जलवायु परिवर्तन जैसी नई चिंताएं बढ़ी हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, कारोबार को लेकर आशावाद बढ़ने के बावजूद व्यापार, सामाजिक और आर्थिक खतरों को लेकर ज्यादातर सीईओ की चिंता बढ़ी है। करीब 40 फीसद सीईओ भू-राजनीतिक अनिश्चितता व साइबर सुरक्षा को लेकर, जबकि 41 फीसद सीईओ आतंकवाद को लेकर चिंतित हैं। 2017 में आतंकवाद को लेकर केवल 20 फीसद सीईओ ने चिंता जताई थी। कुशल लोगों की कमी, लोकलुभावन नीतियां, मुद्रा की अस्थिर कीमत और उपभोक्ताओं का बदलता व्यवहार भी चिंता के कारणों में शुमार हैं।

एशिया प्रशांत क्षेत्र और पश्चिमी यूरोप में जलवायु परिवर्तन और पर्यावरणीय नुकसान टॉप पांच खतरों में शामिल किए गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, करीब 40 फीसद सीईओ इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते कि वैश्वीकरण से अमीर और गरीब के बीच फासला घटा है।

भारत में निवेश की बड़ी संभावना : गोयल-

भारत में विदेशी निवेश की व्यापक संभावनाएं हैं। दुनिया में कहीं और इतने बड़े अवसर नहीं हैं। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मंगलवार को यह बात कही। उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर निवेशक भारत में निवेश को लेकर काफी इच्छुक हैं। गोयल वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) में हिस्सा लेने दावोस पहुंचे हैं।

गोयल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत की भूमिका नेतृत्वकर्ता की बन रही है और इसे बिखरी दुनिया में समस्याओं का हल करने वाले के रूप में देखा जाने लगा है। आगे चलकर दुनिया की अर्थव्यवस्था, सामाजिक तनाव व आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई तथा जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों पर भारत की भूमिका बढ़ने वाली है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वैश्विक स्तर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी लोकप्रियता व स्वीकार्यता व्यापक है। उन्हें आज दुनियाभर के नेता सम्मान की दृष्टि से देखते हैं। उन्हें ऐसे नेतृत्व के रूप में देखा जाता है, जो दुनिया के समक्ष आने वाली समस्याओं को हल करने में मददगार है।

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful