Templates by BIGtheme NET
nti-news-satpal-maharaj-tourism-minister-uttarakhand

चक्रव्यूह में चुनौतियों से घिरे सतपाल महाराज !

दिल में मुख्यमंत्री पद की हसरत धरे, अपने से छोटे राजनीतिक कद के मुखिया की सरकार में मंत्री बन कर भारी मन से काम कर रहे आध्यात्मिक गुरु एवं कद्दावर नेता सतपाल महाराज के लिए चौतरफा चुनौतियों का वक्त शुरू हो गया है। चुनौतियां ऐसी कि जिन्हें पार न कर पाने पर बहुत बड़ा राजनीतिक नुकसान तय है।

दरअसल प्रदेश में चारधाम यात्रा की शुरुआत हो चुकी है और बतौर पर्यटन तथा धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री महाराज के लिए इस यात्रा का सफल संचालन बहुत बड़ा इम्तिहान है। बहुत बड़ा इम्तिहान इसलिए क्योंकि एक तो वे सरकार में मंत्री हैं और दूसरा यह कि इस बार की चारधाम यात्रा वहीं से शुरू होनी है, जहां महाराज के चिर प्रतिद्वंदी हरीश रावत अपने कार्यकाल में छोड़ गए थे। केदारनाथ आपदा के बाद चारधाम यात्रा जितनी भी पटरी पर आ सकी, उसका पूरा श्रेय पिछली हरीश रावत सरकार को दिया जाता है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत खुद इसे अपनी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि बताते रहते हैं। मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद भी वे केदारनाथ पुनर्निर्माण को ही अपने कार्यकाल की सबसे बड़ी उपलब्धि बताते हैं। ऐसे में जाहिर है कि इस बार की यात्रा को इस लिहाज से भी देखा जाएगा कि नया मंत्री हरीश रावत द्वारा शुरू किए गए कामों को कहां तक आगे बढाता है?

व्यक्तिगत तौर पर भी देखें तो सतपाल महाराज का हरीश रावत से छत्तीस का आंकड़ा रहा है। सतपाल महाराज के कंग्रेस छोड़ कर भाजपा में शामिल होने के लिए हरीश रावत को ही एकमात्र जिम्मेदार बताया जाता है। ऐसे में उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती यह दिखाने की केदारनाथ के असली हितैषी वे हैं। हालांकि बतौर मंत्री सतपाल महाराज खुद को पूरे प्रदेश का
हितैषी दिखाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

कुछ दिनों तक उन्हें इसका फल भी मीडिया एक्सपोजर के रूप में मिला, लेकिन अब वे अपनी ही सरकार द्वारा ‘अंडर प्ले’ किए जाने लगे हैं। बीते दिनों ऋषिकेश में चारधाम यात्रा के शुभारंभ के अवसर पर हुआ एक वाकया इस ओर न केवल इशारा करता है बल्कि सतपाल महाराज के लिए एक अन्य चुनौती की संभावना भी तैयार करता है।

दरअसल हुआ यूं कि चार धाम यात्रा का उद्घाटन करने जब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पहुंचे तो उनके साथ कैबिनेट मंत्री के रूप में सतपाल महाराज नहीं थे। हालांकि सतपाल की अनुपस्थिति को नजरअंदाज भी किया जा सकता था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और यह बड़ा मुद्दा बन गया। मुद्दा इसलिए क्योंकि इस मौके पर मुख्यमंत्री के साथ अगले दिन के अखबारों में जो
चेहरा सबसे ज्यादा चमक रहा था, वह भोले जी महाराज का था। भोले जी महाराज यानी सतपाल महाराज के छोटे भाई।

महाराज के छोटे भाई को भाजपा द्वारा तवज्जो देने का सीधा तीत्पर्य यह है कि ऐसा करके पार्टी ने सतपाल महाराज का कद कम करने की तैयारी कर ली है। महाराज का कद छोटा किए जाने की शुरुआत तो तभी हो गई थी जब प्रचंड बहुमत के बाद भाजपा में मुख्यमंत्री बनने का खेल शुरू हुआ और तमाम दावेदारों को पीछे छोड़ पार्टी ने त्रिवेंद्र को ताज सौंप दिया।
तब महाराज भी मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावे दार थे। बताया जाता है कि वे सिर्फ इस आधार पर अंतिम क्षणों में रेस से बाहर किए गए कि उनकी पृष्ठभूमि संघ से नहीं जुड़ी है।

बहरहाल तब मुख्यमंत्री पद से रह गए महाराज ने संभवत: यही सोचकर त्रिवेंद्र कैबिनेट में रहना स्वीकार किया कि त्रिवेंद्र के बाद सरकार में उनकी हैसियत नंबर दो की होगी। हालांकि कागजी तौर पर देखा जाए तो सतपाल महाराज को ही नंबर दो माना जा सकता है। 18 मार्च को शपथ ग्रहण के दिन त्रिवेंद्र के बाद उन्होंने ही शपथ ली थी, मगर व्यावहारिक नजरिए से देखा जाए तो नंबर दो की कुर्सी पर सतपाल महाराज नहीं बल्कि प्रकाश पंत बैठे नजर आते हैं।

संसदीय से लेकर वित्त संबंधी मामलों पर जिस तरह उनकी राय को तवज्जो दी जा रही है, उनके बयानों को सरकार का बयान माना जा रहा है उससे यही दिखता है कि इस सरकार में सबसे मजबूत मंत्री प्रकाश पंत हैं। फिलहाल जो भी हो कुल मिलाकर सतपाल महाराज के लिए यह किसी भी तरह से सुटेबल स्थिति नहीं कही जा सकती है। इस बार बतौर प्रदेश सरकार का
मंत्री उनकी परफारमेंस का पहला इम्तिहान होना है। अपनी धार्मिक एवं आध्यात्मिक इमेज के मुताबिक वे प्रदेश को धार्मिक पर्यटन के क्षेत्र में बहुत आगे ले जाने का दावा कर रहे हैं। अलग-अलग संप्रदायों एवं मतावलंबियों के अनुरूप मंदिरों का
अलग-अलग सर्किट बनाने की बात करने वाले वे पहले मंत्री हैं। लेकिन असल सवाल यही है कि इन तमाम दावों-वायदों और विचारों को अमली जामा पहनाने से पहले वे उन चुनौतियों से कैसे निपटेंगे, जिनसे वे इन दिनों चौ तरफा घिरे नजर आ रहे हैं?

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful