Tag Archives: social work

जंगल में रहने वाले बच्चों को फ्री पढ़ाने वाला स्कूल

केरल का एक स्कूल आदिवासी बच्चों को नए सपने संजोने का मौका दे रहा है। यह स्कूल बच्चों को फ्री में एजुकेशन के साथ-साथ रहने और खाने की भी व्यवस्था करता है। इस स्कूल का नाम विवेकानंद रेजिडेंशियल ट्राइबल विद्यालय है जो कि केरल में पश्चिमी घाट की पहाड़ियों के बीच में स्थित है।  स्कूल में पढ़ाने वाले अध्यापक इतने ...

Read More »

दिहाड़ी मजदूरों के बच्चों को पढ़ाने लिखाने वाले मसीहा

दिहाड़ी मजदूर खासकर जो कंस्ट्रक्शन के क्षेत्र में काम करते हैं, अपने बच्चों की न तो अच्छे से देखरेख कर पाते हैं और न ही उनकी आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी होती है कि वे उन्हें स्कूल भेज पाएं, ऐसे में मसीहा बन कर आये ये युवा दंपति… बेंगलुरु में एक यंग कपल ने बच्चों की जिंदगी संवारने का जिम्मा उठाया ...

Read More »

पहाड़ी पंडित संवार रहा मुस्लिम लड़कियों का जीवन

Life of Muslim girls hailing from the hill pundit krishan chand pant at khora gaziabad

समाज में दो तरह के लोग होते हैं। एक वो जो सामाजिक ताने बाने को तोड़ने की ताक में रहते हैं, वहीं दूसरी ओर कुछ ऐसे लोग होते हैं जो बिना किसी लालच या लोभ के सामाजिक समरसता के लिए काम करते हैं। ऐसे ही एक शख्स हैं गाजियाबाद के खोड़ा इलाके  में रहने वाले कृष्ण चंद्र पंत । ये ...

Read More »

पब्लिक के दम से द्वारका में लौटी प्रकृति

लोगों की कोशिश से दम तोड़ रहे एक पारंपरिक जोहड़ (तालाब) में फिर जीवन का संचार हुआ है। ‘नया जोहड़’ नाम से पहचान पाने वाली इस वॉटर बॉडी में अब 50 से ज्यादा प्रजातियों के पक्षी घूमते हुए देखे जा सकते हैं। यह वॉटर बॉडी द्वारका के सेक्टर-23 में मौजूद है। कुछ साल पहले तक यह तालाब लगभग खत्म होता ...

Read More »

देह व्यापार से बचाकर उस सदमें से उबारने की कोशिश ‘पूर्णता’

किसी इंसान की पहचान उसके काम से होती है, लेकिन किसी का काम उसकी पहचान के लिये खतरा बन जाये और वो उसे छोड़कर नई जिंदगी शुरू करना चाहे तो ये आसान नहीं होता। मुंबई (Mumbai) में रहने वाले आबू वर्गीस (Aaboo Verghese) ऐसे लोगों की मदद कर रहे हैं जो देह व्यापार जैसे कलंकित पेशे में हैं और वो ...

Read More »

नौकरी छोड़ स्लम के बच्चों को बना रही हैं काबिल

अमेरिकी दार्शनिक जॉन डेव के मुताबिक शिक्षा जीवन की तैयारी नहीं, बल्कि शिक्षा ही जीवन है। यही वजह थी कि मुंबई (Mumbai) में रहने वाली अफसाना परवीन (Afsana Parveen) ने अपनी नौकरी छोड़ ऐसे बच्चों को शिक्षित करना शुरू किया जो पढ़ना चाहते थे। उन्होने महसूस किया कि ज्यादातर अपराधों में ऐसे लोग शामिल होते हैं जो कम पढ़े लिखे ...

Read More »
error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful