इस पुलिसवाले ने बच्चों को खोजने की लगाई सेंचुरी

भदोही : यूपी में इटावा की माटी में पले-बढ़े सुनील दत्त दुबे ने यूपी पुलिस में खाकी वर्दी पहनने के बाद अपराधी तो तमाम पकड़े लेकिन इससे इतर उन्होंने गुमशुदा बच्चों को खोजकर उनके घरवालों से भी मिलाने का काम किया। मेरठ कोतवाली में तैनाती के दौरान गुमशुदा बच्चों को खोजकर घरवालों से मिलाने की मुहिम शुरू करने वाले इस इंस्पेक्टर  ने दो दिन पहले ऐसे बच्चों को खोजने की सेंचुरी लगा दी है।

सूबे के आठ जिलों के 33 थानों पर तैनाती के दौरान अपने सेवाकाल में सौवें गुमशुदा बच्चे की बरामदगी का काम भदोही के गोपीगंज कोतवाली में किया। गोपीगंज के पूरेटीका गांव के एक और बालक को तलाश कर उन्होंने सौ बच्चों को ढूंढ निकालने का शतक बना डाला है।

भदोही के गोपीगंज थाने पर तैनाती के दौरान इंस्पेक्टर सुनील दत्त दुबे अकेले इस जिले में अगस्त 2017 से अब तक 10 गुमशुदा बच्चों को मिला उनके घरवालों से मिलवा चुके हैं। बच्चों की गुमशुदगी के मामले में चंद समय में उन्हें ढूंढ निकालने में हासिल महारत ने उन्हें तमाम माता-पिता की दुआएं दिलाई हैं। सुनील का यह सफर वर्ष 1995 में मेरठ से शुरू हुआ था।

गुमशुदा बच्चों की तलाश की यह मुहिम ‘आपरेशन तलाश’ को वे मेरठ, जौनपुर, मीरजापुर, सोनभद्र, भदोही समेत कुल आठ जिलों के 33 थानों पर सफलतापूर्वक अंजाम तक पहुंचा चुके हैं। वर्तमान में गोपीगंज थाने में तैनात इंस्पेक्टर ने पूरेटीका निवासी नन्हकू बिन्द के पुत्र अविनाश उर्फ गौरी नामक (13 वर्ष) को तलाश किया है। यह रेकॉर्ड इसलिए भी मायने रखता है क्योंकि सुरक्षा के साथ ही तमाम मामलों में पुलिस की जिम्मेदारी लगातार बढ़ी है।

मेरठ के पूर्व एसएसपी रणविजय सिंह हैं आदर्श
बड़ी बात यह भी है कि बच्चों की बरामदगी का यश बटोरने वाले इस इंस्पेक्टर ने क्राइम कन्ट्रोल और जनसामान्य की समस्याओं के समाधान में भी पूरा योगदान दिया है। सोनभद्र मे तैनाती के दौरान एंटी रोमियो टीम में हुलिया बदलकर फिल्मी अंदाज में कई मजनुओं को सलाखों के पीछे पहुंचाया।

बच्चों की गुमशुदगी के मामले के केस हैंडल करने में वह मेरठ के पूर्व एएसपी रणविजय सिंह से काफी प्रेरित हैं, जिन्होंने अब तक करीब चार सौ मामलों में सफलता का कीर्तिमान बनाया है। सुनील ने बताया कि एसएसपी इस तरह के केस पूरी रुचि से हैंडल करते रहे हैं। इस दौरान बच्चों के लिए कार्य करने वाली तमाम संस्थाओं का सराहनीय सहयोग मिलता रहा है।

यूपी में रोज गायब होते हैं आठ बच्चे

नैशनल क्राइम रेकॉर्ड ब्यूरो 2016 के आंकड़े बताते हैं कि यूपी में हर रोज औसतन आठ बच्चे लापता हो रहे हैं। इनमें से तीन कभी नहीं मिलते। गायब बच्चों में 33.5 प्रतिशत लड़कियां हैं। 2015 में जहां 2266 बच्चे लापता हो गए थे, वहीं 2016 में यह संख्या बढ़कर 3308 पहुंच गई। इनमें लड़के और लड़कियों की संख्या क्रमश: 1625 और 1683 थी।

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful