Templates by BIGtheme NET

सिंधियाओं से बैर कही भारी ना पड़े CM शिवराज को

बात अब से कोई छह महीने पहले की है. मध्य प्रदेश की वरिष्ठ और कद्दावर मंत्री यशोदाराजे सिंधिया मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह नगर विदिशा एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंची थीं. इस कार्यक्रम में विदिशा नगर पालिका अध्यक्ष मुकेश टंडन को उन्होंने लगभग अपमानित करते चलता कर दिया था. मुकेश टंडन कभी विदिशा की सड़कों पर ऑटो रिक्शा चलाते थे. अपनों को उपकृत करने में कंजूसी बरतने बाले शिवराज सिंह चौहान उन पर इस कदर मेहरबान हुये कि आज विदिशा में टंडन के नाम का सिक्का चलता है.

अपने कुछ वफ़ादारों को उपकृत कर उनकी लाइफ बना देने का रिवाज अब भारतीय राजनीति में मान्य हो चला है पर यशोधरा ने जो सुलूक शिवराज सिंह के इस चेले के साथ किया उसे शिवराज सिंह ने इस हद तक आहत किया कि भिंड जिले की अटेर विधानसभा उप चुनाव के प्रचार  में उन्होने सिंधिया खानदान के भारतीय स्वतन्त्र्ता संग्राम आंदोलन में योगदान के बारे में जो ताना कसा उससे सियासी गलियारों में क्रिकेट के एक दिवसीय मैच के आखिरी ओवरों सा रोमांच है और किसी बड़ी टूट फूट से इंकार करने की स्थिति में कोई नहीं.

मीडिया के सामने लगभग रोते हुये यशोधरा ने यह भी गिनाया कि भाजपा को खड़ा करने राजमाता ने न केवल खुद के बल्कि हम बहनों (बड़ी बहन वसुंधरा राजे, मुख्य मंत्री राजस्थान ) तक के हिस्से के गहने बेचकर चुनाव के लिए गाड़ियों का इंतजाम किया और पार्टी को चंदा भी दिया. केवल आर्थिक योगदान की चर्चा कर वे चुप नहीं हो गईं. बकौल यशोधरा,  जब हम लोग छोटे थे तब अम्मा से मिलने तरस जाते थे क्योकि वे देशसेवा के काम में लगी होतीं थीं. आज जब अपने ही लोग सिंधिया उपनाम लेकर आरोप लगा रहे हैं तो इसे किस तरह बर्दाश्त किया जा सकता है? यशोधरा राजे मानती हैं कि पार्टी बदल गई है उसके लोग भी बदल गए हैं, वे सब कुछ भूल गए हैं और मैं जब भी इस तरह की बातों का विरोध करती हूं तो लोग मुझे कहते हैं कि आपको क्या लेना देना. असल में लोग मुझे दबाने कि कोशिश करते हैं क्योकि मैं एक महिला हूं.

इस तरह की लंबी चौड़ी बयानबाजी के बाद उपसंहार या इति के रूप में यशोधरा ने कहा, सीएम सब जानते हैं, उन्होंने राजमाता से सीखा है, इसलिए मैं उम्मीद करती हूं कि वे गलत नहीं बोलेंगे. आमतौर पर सधे बयानों और संतुलित राजनीति के लिए पहचाने जाने वाले शिवराज सिंह यशोधरा राजे के इस भावुक आक्रमण पर घबराए हुये हैं कि अब क्या करें? बिलाशक विजयराजे सिंधिया के योगदान को भाजपा में कोई नकार नहीं सकता, जिनहोने पहले जनसंघ और फिर भाजपा के लिए जो किया वह वाकई एक मिसाल है. इन्दिरा गांधी से खुला बैर रखने वाली विजयराजे सिंधिया की यह राजनैतिक प्रतिबद्धता ही थी कि उन्होंने आखिरी सांस तक अपने इकलौते बेटे कांग्रेसी खेमे के माधवराव सिंधिया से बात तक नहीं की थी.

सिंधिया राजघराना आज भी भाजपा और कांग्रेस के बीच बंटा हुआ है. माधवराव के बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस कभी भी सीएम प्रोजेक्ट कर सकती है, इसलिए कांग्रेसी खेमे ने कैच लपकते राजमाता को बीच में ला खड़ा किया, जिससे तिलमिलाई यशोधरा राजे ने शिवराज सिंह सहित पूरी भाजपा को कटघरे में खड़ा कर दिया है. अब भाजपा जो भी जबाब दे या न भी दे तो उसकी छीछलेदार होना तय है. अपनी मां और पूर्वजों के बाबत यशोधरा ने अपनी बहन वसुंधरा राजे से भी चर्चा की है जो खुद राजस्थान में कई दिक्कतों से घिरी हुई हैं. तय यह भी है कि अगर कांग्रेस ज्योतिरादित्य सिंधिया को बतौर सीएम पेश कर मध्य प्रदेश का विधानसभा चुनाव लड़ती है, तो शिवराज सिंह की राह आसान नहीं रह जाएगी, क्योंकि सिंधिया की साफ सुथरी छवि और लोकप्रियता का कोई तोड़ मजबूत दिख रही भाजपा के पास है नहीं.

दूसरी दिक्कत भाजपा में ही शिवराज सिंह का बढ़ता विरोध है. दो दिग्गजों रघुनंदन शर्मा और बाबूलाल गौर ने देर न करते शिवराज सिंह को घेरा तो आला कमान और उसमे भी साध्वी उमा भारती की प्रतिक्रिया का लोग बैचनी से इंतजार कर रहे हैं जो राजमाता विजयराजे सिंधिया को अपने आदर्श मानती हैं, क्योंकि वे ही उन्हे राजनीति में लाईं थीं. अपनी बुआओं वसुंधरा और यशोधरा से तयशुदा दूरी पर चलते रहने बाले ज्योतिरादित्य सिंधिया खामोश हैं, जो यशोधरा–शिवराज सिंह विवाद में अपनी संभावनाएं देख रहे हैं लेकिन वे ज्यादा देर चुप रहेंगे ऐसा लग नहीं रहा. ग्वालियर में चर्चा है कि वे अपने एक चहेते पत्रकार की किताब के विमोचन के वक्त इस मुद्दे पर बोलेंगे, क्योकि देश भर के लेखक पत्रकार इस आयोजन में शिरकत करने आ रहे हैं. यह ज्योतिरादित्य के लिए मुफीद मौका अपने खानदान और पूर्वजों पर बोलने का होगा.

कहा यह भी जा रहा है कि अगर शिवराज सिंह अपने किसी चहेते के अपमान को अगर सहन नहीं कर पाये और इस तरह उसे भुनाया, तो ये उनके लड़खड़ाने के भी संकेत हैं. दूसरे अगर सिंधिया परिवार में कोई अंदरूनी संधि हो गई तो भी नुकसान भाजपा का ही होगा, कांग्रेस के पास तो खोने को अब कुछ बचा ही नहीं है.

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful