बंद का बदला? मेरठ के गांव में 70% दलितों पर FIR

मेरठ के शोभापुर गांव के दलित गिरफ्तारी या हत्या के डर से अपने घर छोड़कर पलायन कर रहे हैं. इन्हें डर है कि उन्हें इस महीने के शुरू में दलित उत्पीड़न एक्ट के विरोध में बंद के दौरान हुई हिंसा से जुड़े मामलों में झूठे तरीके से फंसाया जा सकता है.

शोभापुर गांव के ही रहने वाले और पेशे से करियर काउंसलर संदीप राणा बीते एक हफ्ते से अपने घर और गांव से दूर रहने को मजबूर हैं. 28 वर्षीय राणा को डर है कि या तो पुलिस उसे मेरठ में प्रदर्शन के दौरान हिंसक घटनाओं से जुड़े मामलों में झूठा फंसा देगी या आवाज उठाने की वजह से ऊंची जाति के दबंग उनकी हत्या कर देंगे.

संदीप की तरह ही शोभापुर गांव के करीब 2000 पुरुष और लड़के यहां से पलायन कर गए हैं. इन सभी को आशंका है कि अगर वे अपने घरों पर रहे तो या तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा या हत्या कर दी जाएगी. उनका कहना है कि दलित होने की वजह से उन्हें पलायन करना पड़ा है. 2 अप्रैल को मेरठ में हिंसक घटनाओं के बाद पुलिस पर दलितों के उत्पीड़न के आरोप लग रहे हैं.

राष्ट्रीय राजधानी से महज 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मेरठ के शोभापुर गांव में ‘आजतक’ सोमवार को पहुंचा तो दलितों के घरों के दरवाजों पर ताले लटके नजर आए. दुकानें के शटर गिरे होने के साथ स्कूल बंद दिखे. पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा नजर आया.

बता दें कि 2 अप्रैल को मेरठ में दलितों के विरोध प्रदर्शन के दौरान शोभापुर से भी दंगे और आगजनी के मामले रिपोर्ट हुए थे. इसके अगले दिन ही गांव के एक दलित युवक की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी जिसका आरोप दूसरे समुदाय के लोगों पर लगा.

दलित युवक की हत्या से जुड़े मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया. लेकिन प्रदर्शन के दौरान हिंसा से जुड़े मामलों में धरपकड़ में काफी तेजी बरती गई. मेरठ पुलिस ने इस गांव के 70 फीसदी पुरुषों को एफआईआर में नामजद किया है.

जन्म से ही इस गांव में रहने वाले 58 वर्षीय राजवीर कहते हैं, ‘हमारे सामने घरों को छोड़ने के अलावा और कोई चारा नहीं है. पुलिस आधी रात को आकर घरों से पुरुषों को उठा लेती है. फिर उन्हें पुलिस स्टेशन में बुरी तरह पीटने के बाद गिरफ्तार कर लिया जाता है.’

 पुलिस की कार्रवाई के साथ ही गांव के दलितों को अन्य समुदायों के हमले का डर भी सता रहा है. गांव के ही 28 वर्षीय युवक गोपी की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई. गोपी के पिता कहते हैं, ‘मेरे बेटे की अन्य समुदाय के लोगों ने हत्या कर दी. पुलिस ने कुछ को ही गिरफ्तार किया जबकि बाकी खुले घूम रहे हैं. अभी मेरा बेटा मारा गया, कल कोई और मारा जा सकता है.’

यहां कहानी में एक और मोड़ भी है. पुलिस लिस्ट में ऐसे कई लोगों के भी नाम हैं जो कथित तौर पर हिंसा वाले दिन मौके पर मौजूद ही नहीं थे. उन्हें भी आरोपी बना दिया गया है.

संदीप राणा उस दिन अपनी दिल्ली में मौजूदगी को लेकर अपने मोबाइल पर सबूत भी दिखाते हैं. संदीप का कहना है, घटना वाले दिन मैं दिल्ली में अपने रिश्ते के लिए लड़की और उसके घरवालों से मिलने गया था. मेरे फोन में सबूत भी है. लेकिन मेरा नाम एफआईआर में है और मुझे हिंसा भड़काने का आरोपी दिखाया गया है. अब मेरे पास और कोई विकल्प नहीं कि मैं घर छोड़कर भाग जाऊं.

हालांकि पुलिस और प्रशासन का दावा है कि गांव से कोई पलायन नहीं कर रहा है. और कोई इस लिए यहां से जा रहा है कि उसे गिरफ्तारी का डर है तो इसे रोकने के लिए कार्रवाई की जाएगी. पुलिस का कहना है कि जो हिंसा में शामिल थे उनके खिलाफ कार्रवाई जरूर की जाएगी.

गांव के ही रहने वाले 30 वर्षीय दलित युवक राजीव राणा ने तो यहां तक कह दिया कि दलित समुदाय ने धर्म तक बदलने के बारे में भी सोचना शुरू कर दिया है.

राजीव ने कहा, ‘हम दलित हैं और इसीलिए हमें कोई गंभीरता से नहीं लेता. शोभापुर गांव के साथ ही आसपास के 4 गांवों के लोग भी इस्लाम धर्म अपनाने के लिए तैयार हैं. फिर कम से कम हमें ये सब तो नहीं भुगतना पड़ेगा.’ गांव की स्थिति को लेकर प्रशासन चौकस है. गांव में पुलिस के साथ RAF के जवान भी तैनात किए गए हैं.

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful