Templates by BIGtheme NET
nti-news-rahman-sir-educate-underprivileged-students-in-patna-bihar

51 रुपये लेकर बनाते है आईएएस और इंजीनियर

(मोहन भुलानी, न्यूज़ ब्यूरो, नेशनल )

उनको दूसरे धर्म की लड़की से प्यार हो गया था, ये प्यार इतना गहरा था कि दोनों ने जमाने की परवाह नहीं की और एक दूसरे साथ शादी के बंधन में बंध गये। बदले में दोनों के परिवार वालों ने उनसे रिश्ता खत्म कर लिया। पढ़ाई में होशियार डॉक्टर एम रहमान (Dr. M Rehman) ने तय किया कि वो सिविल सर्विसेज (civil services) की परीक्षा देंगे, लेकिन वो इस परीक्षा की तैयारी सही तरीके से नहीं कर पाये। इस वजह से वो असफल हो गये। तब उन्होने तय किया कि वो भले ही जिन वजहों से असफल हुए हों, वैसे हालात का सामना दूसरों को ना करना पड़े। इसके लिये वो जुट गये गरीब बच्चों को शिक्षित करने में। आज वो उन बच्चों के सपनों को पूरा कर रहे हैं, जो सपने वो कभी खुद अपने लिये देखते थे। अपने छात्रों के बीच ‘रहमान सर’ (Rehman Sir) के नाम चर्चित डॉक्टर रहमान दो विषयों में पीएचडी कर चुके हैं। 43 साल के डॉक्टर एम रहमान (Dr. M Rehman) पिछले 23 सालों के दौरान पटना (Patna) में गरीब तबके के बच्चों को केवल 51 रुपये लेकर सिविल सर्विसेज (civil services) की तैयारी करा रहे हैं। अब तक वो करीब 30 हजार से ज्यादा छात्र छात्राओं को बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन, यूपीएसी और दूसरी सरकारी परीक्षाओं की कोचिंग करा चुके हैं। यही वजह है कि उनके पढ़ाये कई बच्चे आज आईएएस,डीएसपी, इंजीनियर तक बन चुके हैं।

डॉक्टर रहमान ने 20 साल की उम्र से पटना (Patna) के एक कोचिंग इंस्टीट्यूट में पढ़ाना शुरू किया। बच्चों को जब उनके पढ़ाने का तरीका काफी पसंद आया तो उन्होने साल 1997 में अलग से कोचिंग क्लासेज देनी शुरू कर दीं। इसकी शुरूआत उन्होने रहमान हिस्टोरिका नाम से की। इसके बाद उन्होने साल 1997 में इसे नाम दिया ऐम सिविल सर्विसेज (Aim Civil Services)। साल 2008 में बेटी अदम्या के जन्म के बाद उन्होने इस कोचिंग सेंटर को नाम दिया ‘अदम्या अदिति गुरुकुल’ (Adamya Aditi Gurukul)। इस तरह उनके पढ़ाये सैकड़ों छात्रों में से अब तक 8 आईएएस, 7 आईपीएस, 3 हजार से ज्यादा सब इंस्पेक्टर, 250 से ज्यादा डीएसपी, और विभिन्न सरकारी नौकरियों में हजारों की संख्या में तृतीय श्रेणी की नौकरियां हासिल कर चुके हैं।

‘अदम्या अदिति गुरुकुल’ (Adamya Aditi Gurukul) सुबह 6 बजे से रात 9 बजे तक चलता है। हर बैच तीन घंटे का होता है। बच्चों को पढ़ाने के लिए रहमान सर के अलावा 9 दूसरे टीचर और 6 सहायक स्टाफ भी है। इस समय यहां पर 800 छात्राएं और 3 हजार से ज्यादा छात्र शिक्षा हासिल कर रहे हैं। हर बैच में 500 छात्र छात्राएं होते हैं। डॉक्टर रहमान ना केवल बच्चों को पढ़ाने का काम करते हैं बल्कि जो बच्चे गरीब हैं लेकिन पढ़ाई में अच्छे हैं उनके लिये ये रहने की व्यवस्था करते हैं। फिलहाल इनके यहां ऐसे करीब 50 बच्चे यहां रहकर मुफ्त में पढ़ाई कर रहे हैं। डॉक्टर रहमान ने News Trust of India को बताया  कि

मैंने यहां पर प्रवेश लेने के लिए कोई मापदंड तय नहीं किया है। जो कोई भी सिविल सर्विसेज (civil services) की तैयारी करना चाहता है वो 51 रुपये या जिसकी जितनी इच्छा हो देकर यहां पर दाखिला ले सकता है।

रहमान का अपने छात्रों से ठीक वैसा ही संबंध है जैसा एक पिता का अपने बेटे या बेटी से होता है। यही वजह है कि कई छात्र छात्राएं उनको पिता के तौर पर सम्मान देते हैं।

rehman sir with other colleagues

डॉक्टर रहमान यहां पर बच्चों को  इतिहास और ज़िंदगी के बारे में बताते हैं। इस दौरान वो बच्चों को अपनी ज़िंदगी के अनुभव को बच्चों के साथ साझा करते हैं। उनको बताते हैं कि कैसे विपरित हालात से निकल कर ज़िंदगी में आगे बढ़ा जा सकता है। वहीं दूसरे टीचर यहां पर बच्चों को अर्थशास्त्र, भूगोल, अंग्रेजी, विज्ञान, गणित जैसे विषय पढ़ाते हैं। खास बता ये है कि यहां पर पटना और उसके आसपास के बच्चे ही पढ़ने के लिए नहीं आते, बल्कि शनिवार और रविवार को यहां पर कोलकाता, इलाहाबाद, झारखंड से भी कई बच्चे पढ़ने के लिए आते हैं। रहमान कहते हैं कि इतने सालों से इस कोचिंग क्लासेज को वो ईश्वर की कृपा से चला रहे हैं। उनके यहां से निकले कई बच्चे जो आज अपने जीवन में मुकाम हासिल कर चुके हैं, वो उनकी आर्थिक मदद करते हैं। कुछ समय पहले डॉक्टर रहमान को हार्निया का ऑपरेशन करवाना था, लेकिन उनके पास केवल 17 हजार रुपये थे। इसकी जानकारी जब उनके एक पूर्व छात्र को लगी जो साल 2004 में उनके यहां पढ़ता था और अब बड़ौदा के कस्टम डिपार्टमेंट में ज्वाइंट ऑफिसर हैं। तो वो खुद अपनी गाड़ी में डॉक्टर रहमान को एक प्राइवेट अस्पताल में ले गया और वहां पर उनका ऑपरेशन करवाया। रहमान कहते हैं उन्होने अपनी जिंदगी में पैसा तो नहीं कमाया लेकिन प्यार और इज्जत बहुत कमाई है। उनके यहां से साल 1994 से लेकर अब तक निकले हुए सभी सफल लोगों से उनका आज भी उनसे संपर्क बना हुआ है।

rehman sit at his classroom

डॉक्टर रहमान बताते हैं कि उन्होने इन सालों में बहुत से ऐसे बच्चों को सफल होते हुए देखा है जिनके पास खाने और पहनने के लिए कपड़े भी नहीं थे, लेकिन आज वो किसी सरकारी महकमें में अफसर बन गये हैं। ऐसी ही एक छात्रा मीनू कुमारी झा इस समय पूर्णिया की एसपी हैं। वो पूरे साल केवल एक जोड़ी कपड़े में उनके पास पढ़ने के लिए आती थी। मीनू से उन्होने केवल 11 रुपये फीस ली थी। जब वो लगातार बीपीएससी की परीक्षा में असफल हो रही थी, तब डॉक्टर रहमान ने उनका हौसला बढ़ाने के लिये एक पेपर पर लिखा कि तुम एक दिन आईएएस बनोगी। जिसके बाद मीनू कुमारी झा ने साल 2010 में हुई यूपीएससी की परीक्षा में 89 रैंक हासिल की। इसी तरह एक दूसरे छात्र सुधांशु शेखर जो अब सब-इंसपेक्टर हैं। उसके पिता ताड़ी बेचते थे और उसके पास जब खाना नहीं होता था तो वो ताड़ी पीकर अपना पेट भरता था, लेकिन आज वही सुधांशु शेखर डीएसपी हैं।

rehman sir with ex cbi chief joginder singh

डॉक्टर रहमान कहते हैं कि

मैं बच्चों से कहता हूं कि गरीबी को अपनी लाचारी मत समझो उसे कामयाबी का हथियार बनाओ। कलम में वो ताकत है जिससे जिंदगी में सब कुछ हासिल किया जा सकता है। इसलिए मैं बच्चों से कहता हूं मन लगाकर और मेहनत से पढ़ाई करो। एक दिन सफलता जरूर आपके कदम चूमेगी।

डॉक्टर रहमान इस साल के अंत तक इन बच्चों के लिए एक गुरुकुल बनाने जा रहे हैं। जहां पर कम से कम 300 बच्चों के रहने की सुविधा होगी। साथ ही उनकी इच्छा है कि वो देश के दूसरे राज्यों में रहने वाले गरीब बच्चों को भी ये सुविधा दें सकें, फिलहाल उनको इंतजार है ऐसे किसी शख्स या संगठन का जो उनके इस काम में आर्थिक मदद को आगे आये।

(यदि आप डॉक्टर एम रहमान (Dr. M Rehman) या उनके ‘अदम्या अदिति गुरुकुल’ (Adamya Aditi Gurukul) के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं या उनके इस कार्य में आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो आप उनके फेसबुक प्रोफाइल पर जाकर संपर्क भी कर सकते हैं)

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful