किसानों की मेहनत का मोल कौड़ियों के भाव

एक महीने पहले तक अपने खेतों में लहलहा रही लहसुन की फसल को देखकर खुश होने वाले मध्य प्रदेश के मंदसौर के किसानचंद्रप्रताप का गला आज लहसुन का नाम सुनते ही रुंध जाता है. उन्होंने बड़े जतन से बढिय़ा बीज और खाद देकर फसल उगाई थी.

उपज भी उम्दा हुई. लेकिन मंडी में मिल रहे भाव को सुनते ही उनके पैरों तले जमीन खिसक गई. मध्य प्रदेश देश का प्रमुख लहसुन उत्पादक राज्य है और उसका मालवा इलाका इसके लिए मशहूर भी है. चंद्रप्रताप कहते हैं, लहसुन लगाने वाले किसानों के पास कुछ नहीं बचा है. मंडी में कीमत एक रुपए प्रति किलो मिल रही है.

इससे किसान बर्बादी तय है. लागत न निकले तो किसान जिंदा कैसे रहेगा? सवाल वाजिब है. जानकार बताते हैं लहसुन की कीमतों के ऐसे हालात कभी नहीं रहे. जनवरी तक लहसुन 60-70 रु. प्रति किलो बिक रहा था. लेकिन अचानक कीमतों में कमी शुरू हो गई.

मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह कहते हैं, मुख्यमंत्री किसानों के लिए बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं, पर व्यापारियों की मनमानी नहीं रोक पा रहे हैं.सिर्फ मध्य प्रदेश ही नहीं, लहसुन के भाव राजस्थान में भी औंधे मुंह गिरे हैं. सूबे के हाड़ौती संभाग (कोटा, बूंदी, बारां और झालावाड़ जिले) में लहसुन की कीमत प्रति किलो डेढ़ रु. हो गई है.

ऐसे में संभाग के दो किसानों के सदमे में मौत होने की खबर है. सबसे बुरी हालत तो उन किसानों की है जिन्होंने कर्ज लेकर फसल बोई थी. राजस्थान में किसानों को राहत देने के नाम पर बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत 32.57 रु. प्रति किलो की दर से लहसुन की खरीद की घोषणा तो कर दी गई, लेकिन उसकी शर्तें इतनी कड़ी हैं कि चंद किसान ही उसको पूरा कर पा रहे हैं.

मसलन, लहसुन की गांठ 25 मिलीमीटर से बड़ी हो, गीली या पिचकी न हो. ऐसी शर्तें भी किसानों के लिए सरदर्द हैं. समस्या सिर्फ लहसुन किसानों की नहीं है. मध्य प्रदेश में एक बार फिर से टमाटर सड़कों पर फेंके जा रहे हैं. विडंबना कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के क्षेत्र बुधनी में ऐसा हो रहा है.

 यही हाल सूबे के दूसरे हिस्सों में भी है, जहां खेत से मंडी तक ले जाने का खर्च भी फसल से नहीं निकल पा रहा. रायसेन जिले के केवलाझिर गांव के टमाटर उत्पादक किसानों ने 900 एकड़ की फसल पर ट्रैक्टर चलवा दिया. मंडी में उन्हें टमाटर के महज एक से डेढ़ रु. ही मिलने वाले थे.

टमाटर की कीमतों में यह गिरावट हरियाणा में भी देखी जा रही है. नूंह जिले के पिनगवां के किसान मुफीद बताते हैं कि एक क्रेट टमाटर (25 किलो) की कीमत महज 50 रु. मिल रही है. जबकि एक एकड़ में टमाटर उगाने की लागत 40,000 रु. है. वे कहते हैं, माकूल रेट छोडि़ए, किसान कोशिश में है कि किसी तरह उसका मूलधन ही वापस आ जाए.’’ इस बार बढिय़ा रेट की उम्मीद में नूंह और पलवल जिले में 60 फीसदी किसानों ने टमाटर बोए थे.

इधर, गेहूं की कटाई के बाद उसकी बिक्री का भी हाल टमाटर और लहसुन जैसा ही है. झांसी में गेहूं क्रय केंद्रों पर जमा ट्रैक्टरों की कतार बताती है कि उपज को बेचना, उगाने से भी दुष्कर है. जिले के तालबेंहट में किसान प्राण सिंह पिछले एक महीने से गेहूं बेचने की कतार में है, पर अभी तक उनकी पैदावार तौली भी नहीं जा सकी हैं.

दूसरी तरफ, तीन महीने पहले ही क्रय केंद्र के जरिए खरीदी उड़द की कीमत का भुगतान नहीं हो पाया है. बहरहाल, किसान एक बार फिर से औने-पौने दाम में फसल बेच रहे हैं. पिछले साल मंदसौर में जो आग लगी थी, कहीं दोबारा भड़क न जाए.

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful