Templates by BIGtheme NET

नशा मुक्त समाज बनाने में जुटी है ममता

जिस उम्र में बच्चों को पढ़ाई लिखाई और खेलकूद का नशा होना चाहिए, आज उस उम्र के कई बच्चे ड्रग्स के जाल में फंसे हुए हैं। जिस बचपन की पहचान मुस्कुराहट, शरारत, रूठना, मनाना होती है, वो पहचान आज कुछ बच्चों में गुम हो गई है। दिल्ली (Delhi) से सटे गाजियाबाद (Ghaziabad, Uttar Pradesh) में रहने वाली ममता गुप्ता (Mamta Gupta) ने जब अपने आसपास ऐसे बच्चों की तदाद देखी जो नशे के लिये लूटपाट करते थे और गलत कमों को करते थे तो उन्होने फैसला लिया कि वो पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने के साथ साथ नशामुक्ति (De-addiction) से जुड़ा काम करेंगी। अपने इस अभियान की वजह से वो पिछले 16 सालों के दौरान अब तक करीब एक हजार से ज्यादा ऐसे परिवारों को बचा चुकी हैं जिनका कोई ना कोई सदस्य नशे के मकड़जाल में फंसा हुआ था।

ममता गुप्ता (Mamta Gupta) के पति वेदराम गुप्ता गाजियाबाद (Ghaziabad) के एक जाने माने समाजसेवी (social worker) हैं। बागपत में उनका काफी सालों से स्कूल चल रहा है। करीब 16 साल पहले जब ममता अपने ससुराल आईं तो उनको पता चला कि उस स्कूल में लड़कियां पढ़ने के लिए नहीं आती थी। मुस्लिम बहुल इस इलाके में जब वो अपने पति के कहने पर सर्वेक्षण के लिए निकली तो उनको पता चला कि इलाके के ज्यादातर लोग नशे के आदी हैं। इस कारण वो अपनी बेटियों के पढ़ने के लिए स्कूल में नहीं भेजते हैं। उनका मानना था कि लड़कियों का पढ़ाई में कोई भविष्य नहीं है क्योंकि शादी के बाद उनको दूसरे घर जाना होता है। इसके बाद ममता गुप्ता (Mamta Gupta) ने उत्तर प्रदेश के बागपत जिले (Baghpat district in Uttar Prades) के अपने गांव रटौल में ग्राम प्रधान से मिलकर कई जागरूकता अभियान चलाये। जिसमें वो लोगों को नशामुक्ति के फायदे और लड़कियों की शिक्षा के लिए जागरूक (aware of girls’ education) करने लगी। धीरे-धीरे उनकी ये मुहीम रंग लाई। आज उनके इस स्कूल में 250 बच्चे पढ़ते हैं। इनमें 70 प्रतिशत लड़कियां हैं। रटौल गांव की प्रगति को देखकर दूसरे गांव के लोग भी उनके इस काम से प्रभावित होकर अपनी लड़कियों के स्कूल भेजने लगे। ममता ने बताया कि

मैंने अपने काम की शुरुआत लड़कियों को शिक्षित करने के लिए की थी। जब मैं नशे के खिलाफ जागरूक अभियान चला रही थी तब मुझे पता चला कि इसकी जड़ें कितनी गहरी हैं। मैंने 12-13 साल के बच्चों को जब नशा करते हुए देखा तो तय किया कि मैं इन बच्चों को बचाने के लिए ही काम करूंगी।

इसके बाद ममता ने 2013 में ‘माया ममता चैरिटेबल ट्रस्ट’ (Maya Mamta Charitable Trust) की स्थापना की। इस ट्रस्ट की स्थापना का मुख्य उद्देश्य समाज को नशे के खिलाफ जागरूक करना था। अब तक वो दिल्ली (Delhi), गौतमबुद्ध नगर (Gautam Buddha Nagar), मोदी नगर, मुराद नगर, मुरादाबाद (Moradabad), आगरा (Agra) जैसे कई जिलों में नशामुक्ति अभियान (intoxication campaign) चला चुकी हैं। उनकी कोशिशों से अब तक हजारों लोग नशा छोड़ चुके हैं। ममता के लिए इस काम को शुरु करना आसान नहीं था क्योंकि नशा करने वाले लोग नशा छोड़ने को तैयार ही नहीं थे। तब उन्होने गांव के प्रधान और दूसरे सम्मानित लोगों को अपने अभियान में शामिल किया। इस कारण जब कोई असामाजिक लोग उनको परेशान करने की कोशिश करते तो प्रधान और दूसरे लोग उनकी सुरक्षा के लिए सामने आ जाते। यहां तक कि कई बार कुछ लोगों ने उनसे कहा कि वो इस तरह की मुहिम चलाकर अपना समय बर्बाद कर रही हैं। तब ममता उनसे पूछती थीं कि अगर उनका खुद का बच्चा नशे में जकड़ा होता तो वो क्या करते? ममता गांव के अलावा शहरों के विभिन्न स्कूल और कॉलेजों में भी नशा मुक्ति कैंपेन चलाती हैं। इस दौरान 1 घंटे का सेशन होता है। जहां पर वो छात्रों को बताती हैं कि नशा उनके लिए कितना हानिकारक है। नशे के जाल में फंसे युवकों को किस तरह असामाजिक तत्व उन्हें अपना शिकार बनाते हैं। यही नहीं वो नशे से बचने के गुर भी बताती हैं। ममता कहती हैं कि अगर वो अपने एक सेशन से एक बच्चे को भी नशे में फंसने से बचा पाती हैं तो उनके लिए यही जीत है।

ममता का मानना है कि अगर आज के बच्चों को नशे से बचाना है तो माता-पिता को अपने बच्चों को वक्त देना चाहिए। आज के माता पिता के पास समय की कमी होती है इसलिये वो बच्चों को अच्छे संस्कार नहीं दे पाते। अभिभावक जब घर में रहते हैं तो वो अपने कामों में उलझे रहते हैं और उनके पास बच्चों से बात करने का वक्त नहीं रहता। इस कारण बच्चा अपनी खुशियों को पाने के लिए नशा करने लगता है। ममता का मानना है कि समाज को नशामुक्त करने के लिए और भी लोगों को आगे आना चाहिए। ममता नशमुक्ति से जुड़े इस काम को कितनी गंभीरता से कर रही हैं इसका अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि आज उनके साथ अलग अलग शहरों से करीब दस हजार से ज्यादा वालंटियर जुड़े हुए हैं।

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful