केरल में ‘निपाह’ वायरस के कहर से 6 लोगों की मौत

कोझीकोड: केरल के कोझीकोड जिले के कलेक्टर के अनुसार अब तक निपाह वाइरस से 6 लोगों की मौत हो गई है. और एक व्यक्ति का इलाज चल रहा है जबकि आठ अन्य लोगों को निगरानी में रखा गया है. इसके बाद मामले की जांच के लिये केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा गठित चिकित्सकों का उच्च स्तरीय दल वहां पहुंच गया है. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने आज बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने सभी सावधानी बरत ली है.  वायरस शरीर के तरल पदार्थ के स्पर्श या सीधे शरीर के संपर्क के माध्यम से फैल रहा है. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा ने आज बताया कि पिछले एक पखवाड़े में जिन तीन लोगों की मौत हुई है, वे एक ही परिवार के हैं. इनमें से दो भाई थे और उनकी आयु 20 साल से अधिक थी. जिस व्यक्ति का इलाज चल रहा है वह वाइरस से मरने वाले दोनों भाइयों के पिता हैं.

निपाह वाइरस पशुओं से मनुष्य में फैलता है
निपाह वाइरस पशुओं से मनुष्य में फैलता है. इससे पशु और मनुष्य दोनों गंभीर रूप से बीमार हो सकते हैं. इस विषाणु के स्वाभाविक वाहक फ्रूट बैट (चमगादड़) हैं. मंत्री ने बताया कि एक चमगादड़ मृतकों के घर के कुएं में पाया गया था. उसे अब बंद कर दिया गया है. इन लोगों का उपचार करने वाली एक नर्सिंग सहायक लिनी की आज सुबह मौत हो गई.

हालांकि, इस बात की पुष्टि होनी अभी बाकी है कि क्या वह विषाणु से संक्रमित थी. पांच और लोगों की यहां और पड़ोसी मलप्पुरम जिले में उच्च ज्वर और विषाणु के अन्य समान लक्षणों से मौत हो चुकी है. स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों ने हालांकि बताया कि अभी इस बात की पुष्टि होनी बाकी है कि क्या ये मौतें विषाणु की वजह से हुईं.

राज्य पहली बार इस विषाणु से प्रभावित हुआ है
स्वास्थ्य मंत्री शैलजा और श्रम मंत्री टी पी रामकृष्णन ने अधिकारियों के साथ चर्चा की और आश्वासन दिया कि सरकार ने विषाणु के प्रसार को रोकने के लिये सभी जरूरी कदम उठाए हैं. राज्य पहली बार इस विषाणु से प्रभावित हुआ है. नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल का एक उच्चस्तरीय दल पहले ही हालात का जायजा लेने के लिये कोझीकोड जिले में पहुंच गया है. राज्य को हाई अलर्ट पर रखा गया है और यहां दो नियंत्रण कक्ष खोले गए हैं.

एहतियाती उपाय के तौर पर उन्हें अलग कर दिया गया है
मंत्री ने कहा कि डरने की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह विषाणु संक्रमित व्यक्ति के सीधे संपर्क में आने से फैलता है. उन्होंने कहा, ‘‘हमने उन लोगों की सूची बनाई है जो उन मरीजों के संपर्क में आए थे. एहतियाती उपाय के तौर पर उन्हें अलग कर दिया गया है’’ मंत्री ने कहा कि मेडिकल कॉलेज के आस-पास के अस्पतालों से विशेष वार्ड स्थापित करने को कहा गया है और अगर मरीजों में विषाणु के लक्षण हों तो उन्हें मेडिकल कॉलेज भेजने का निर्देश दिया गया है. उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के निदेशक के नेतृत्व में एक मल्टी डिसिप्लीनरी टीम का गठन किया है.

चमगादड़ से वाइरस का प्रसार हो रहा है
स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘स्वास्थ्य मंत्रालय ने चिकित्सकों के एक उच्च स्तरीय दल के गठन का निर्देश दिया है और चुनी हुई टीम केरल पहुंच गई है. इस बात का संदेह है कि चमगादड़ से विषाणु का प्रसार हो रहा है’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘टीम में पशुपालन, राष्ट्रीय प्रतिरक्षा विज्ञान संस्थान और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद समेत अन्य संस्थानों के अधिकारी शामिल हैं. मंत्रालय हालात की निगरानी के लिये केरल के स्वास्थ्य विभाग के साथ करीबी संपर्क में है.’’ विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, निपाह वाइरस से मनुष्य में कई बिना लक्षण वाले संक्रमण से लेकर एक्यूट रेस्पीरेटरी सिंड्रोम और प्राणघातक इन्सैफेलाइटिस तक हो सकता है.

डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट के अनुसार एनआईवी (निपाह वाइरस) से सुअरों और अन्य घरेलू जानवरों में भी बीमारी हो सकती है. अभी न तो मनुष्य और न ही पशुओं के उपचार के लिये इसका टीका विकसित हुआ है. मनुष्य के मामलों में इसका प्राथमिक उपचार इंटेंसिव सपोर्टिव केयर (सघन सहायक देखभाल) के जरिये किया जा सकता है.

निपाह वाइरस (एनआईवी) की पहचान पहली बार 1998 में मलेशिया के कामपुंग सुंगई निपाह में बीमारी के फैलने के दौरान हुई थी. उस समय सूअर इसके वाहक थे. हालांकि, बाद में एनआईवी के प्रसार में बीच का कोई वाहक नहीं था. बांग्लादेश में 2004 में इस विषाणु का मनुष्य में संक्रमण हुआ था. यह विषाणु संक्रमित चमगादड़ से दूषित, खजूर का रस पीने से फैला था.

केंद्र से मांगी गई मदद
शनिवार (19 मई) को जिले में एक निजी अस्पताल में 50 वर्षीय महिला की मौत हो गयी थी, जबकि उसके 25 और 23 साल के दो रिश्तेदारों की क्रमश: 18 और 5 मई को मृत्यु हो गयी थी. इससे पहले लोकसभा सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने केरल के कोझिकोड जिले में एक विषाणु के प्रकोप को रोकने के लिए केंद्र की मदद मांगी थी.

तेजी से फैलता है ‘नामक विषाणु’
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को लिखे पत्र में रामचंद्रन ने कहा कि उनके लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र वताकरा में कुट्टियाडी तथा पेरम्ब्रा सहित कुछ पंचायत क्षेत्र ‘घातक विषाणु’ की चपेट में हैं. सांसद ने पत्र की एक प्रति यहां प्रेस को भी उपलब्ध कराई. उन्होंने कहा कि कुछ चिकित्सकों ने इसे निपाह नामक विषाणु बताया है, जबकि अन्य ने इसे जूनोटकि विषाणु बताया है जो तेजी से फैलता है.

केंद्रीय टीम जाएगी केरल
इस बीच, दिल्ली से प्राप्त खबर के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा ने रविवार (20 मई) को राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र के निदेशक को राज्य सरकार की सहायता करने के लिए केरल के कोझिकोड़ की यात्रा करने का निर्देश दिया. मंत्री के निर्देश पर एक केंद्रीय टीम केरल जाएगी. नड्डा ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने स्थिति की समीक्षा की.

 

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful