पहाड़ी हितों की लड़ाई जनसंवाद से लड़ने वाले सच्चे सपूत

आंदोलनकारी , पहाड़ प्रेमी, समाज प्रेमी किसी भी सभा , गोष्ठी या सांस्कृतिक कार्यक्रम में आप चले जाए ,बहुत मात्रा में मिल जाएंगे , 2 अक्टूबर को काला दिवस बनाने वाले , राजनेर्तिक पार्टियों को गाली देने वाले , हर पहाड़ की सभा में अपने समाज की बुराई व संगगठित होने का रोना हम सब रोते हुए नजर आते है ,

पर हम वहाँ बिलकुल खड़े नहीं होते , जहा कोई पहाड़ के लिए लड़ रहा है , पहाड़ की दुर्दशा के लिए जिम्मेवार व्यवस्था से सवाल पूछ रहा है , पहाड़ के विनाश रूपी विकास का विरोध कर रहा है …उसके साथ हम बिलकुल नहीं खड़े होते , न किसी भी प्रकार का सहयोग करते है !
अगर यह झूठ है तो कृपया बताए …एक पहाड़ प्रेमी, जुनूनी , पहाड़ पुत्र अपने कुछ जुनूनी साथियो के साथ आजकल पंचेश्वर से उत्तरकाशी की यात्रा पर है , क्या आपको , मुझे और हम सबको उसकी सुध नहीं लेनी चाहिए ?
कहा है ऊत्तराखंड एकता मंच , इतनी बड़ी रैली रामलीला मैदान में आयोजित करी , क्या हो गया पहाड़ का विकास ? कहा है हुंकार रैली के वे लोग, कहाँ है 2 अक्टूबर काला दिवस को आंसू बहाने वाले वो लोग ? क्या मिल गया है आप सबको पहाड़ आपको आपकी चाहत का ?
हम अगर इस प्रकार की यात्रा , संघर्ष या गोष्ठी में नहीं सम्मिलित नहीं हो सकते है ,तो कम से कम इन मुट्ठी भर पहाड़ पुत्रो को अपना समर्थन तो दे सकते है , उनकी बात तो कर सकते है , उनके मुद्दों को समर्थन तो दे सकते है , उन मुद्दों को जनता के सामने रख तो सकते है ।
अभी पहाड़ मैं नए कानून के अनुसार कोई भी कितनी भी भूमि खरीद सकता है , अब एक नाली की सीमा समाप्त हो गयी है । गंगा सफाई अभियान के लिए प्रोफ जी डी अग्रवाल ने जान दे दी , किसी का कुछ नहीं बिगड़ा , 108 व्यवस्था जर्जर हो गयी है और शराब घर घर पहुचाई जा रही है इन सबसे न पहाड़ बचेगा और न पहाड़ी , जल पर अधिकार न जमीन पर अधिकार , फिर कहा बचेगा पहाड़ क्या तब नींद से उठोगे ?

मैं भी आपकी तरह एक पहाड़ी हु जिसे पहाड़ से प्रेम है , मैं इन पहाड़ पुत्रो के साथ यात्रा मैं किन्ही कारणों से न जा सका , परंतु उनके सब मुद्दों का मैं समर्थक हु , और उनके समर्थन में खड़ा हूँ , अगर आप भी इन मुद्दों से सहमत है तो आगे आये और इन मुद्दों पर लिखे , आंदोलन करे , तभी एक समृद्ध राज्य का निर्माण हो सकता है , सिर्फ नेता और व्यवस्था को कोसने से काम नहीं चलेगा , याद रहे उत्तराखण्ड भी कुछ जुनूनी लोगो के कारण बना था , गैरसैण भी ऐसे ही बनेगा , नेताओ से कुछ उम्मीद न रखे ,न इन्होंने ऊत्तराखंड निर्माण मैं कोई सहयोग किया और न यह गैरसैण बनाने में सहयोग करेंगे, बस उम्मीद सिर्फ और सिर्फ अपने आप से रखे

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful