Templates by BIGtheme NET

पहाड़ में घट रही बेटियों की संख्या

नैनीताल : जिले के पर्वतीय क्षेत्रों में पलायन के बाद अब सरकार के सामने लिंग अनुपात घटने की नई चुनौती खड़ी हो गई है। पिछले साल तक ओखलकांडा ब्लॉक में बालकों पर 1045 बालिकाएं थीं, जो इस वर्ष अप्रैल से अब तक की अवधि में घटकर 971 हो गर्इ हैं। जिले के कोटाबाग ब्लॉक में सबसे कम बालकों पर 705 तो धारी में 820 और भीमताल में 849 बालिकाएं रह गईं हैं। जिसे स्वास्थ्य महकमा भविष्य के लिए बड़े खतरे की आहट के तौर पर देख रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान भी बेटियों के प्रति समाज की सोच बदलने में नाकाम साबित हो रहा है। खुद चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से अप्रैल से अक्टूबर तक आशा संसाधन केंद्रों से एकत्र किए आंकड़े तो यही कहानी कह रहे हैं।

स्वास्थ्य महानिदेशालय की ओर से इस बार राज्य स्थापना दिवस के साथ साप्ताहिक जागरूकता अभियान शुरू किया गया है, जिसमें बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ दिवस प्रमुख है। बता दें कि वर्ष 2011 की जनगणना में जिले में बालकों पर 914 बालिकाएं थीं। अप्रैल 2016 से मार्च 2017 तक बेतालघाट में 950, भीमताल में 965, धारी में 856, कोटाबाग में 860, रामनगर में 897, हल्द्वानी में 930, ओखलकांडा में 1045 तथा रामगढ़ में 929 था। जिले का औसत लिंग अनुपात में बालकों पर 925 बालिकाएं थीं। इस वर्ष अक्टूबर तक के आंकड़ों में रामनगर ब्लॉक में बालकों पर 1019 बेटियां है तो हल्द्वानी में 902, ओखलकांडा में 971, रामगढ़ में 933 बालिकाएं हैं। जिससे जिले का औसत घटकर 908 पहुंच गया है। स्वास्थ्य महकमा पर 900 के अनुपात को संवेदनशील मानता है। ऐसे में कोटाबाग, ओखलकांडा, धारी, ओखलकांडा में घटते लिंग अनुपात ने विभाग की चिंता बढ़ा दी है। यहां यह भी है कि भारत सरकार मानती है कि प्राकृतिक तौर पर लड़कों पर 954 लड़कियां पैदा होती हैं।

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful