Templates by BIGtheme NET
nti-news-car

दिल्ली की लड़कियों ने बनाई माइलेज वाली कार

इरादे पक्के हों और हौसला मजबूत हों तो कोई भी काम मुश्किल नहीं होता। इस बात को इन 16 लड़कियों से बेहतर कौन जान सकता है, जिन्होने तमाम मुश्किलों को पार करते हुए एक ऐसी कार डिजाइन (car design) की है जिसकी माइलेज 200 किलोमीटर प्रति लीटर है और इसकी अधिकतम स्पीड 55 किलोमीटर प्रति घंटा है। इस खास उपलब्धि के बाद अब ये सभी लड़कियां सिंगापुर में आयोजित होने वाली शेल इको मैराथन एशिया (Shell Eco-Marathon Asia in Singapore) प्रतियोगिता में हिस्सा लेने जा रही हैं। इंदिरा गांधी दिल्ली महिला तकनीकी विश्वविद्यालय (Indira Gandhi Delhi Technical University for Women – IGDTUW) में पढ़ने वाली ये लड़कियां मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई (Studying in Mechanical Engineering) कर रही हैं और इन्होने अपने ग्रुप को नाम दिया है ‘टीम पेंथर’ (Team Panther)। जबकि इनकी बनाई इस खास कार का नाम है ‘आइरिस 2.0’।

Irish 2.0 car display at select citywalk mall

‘टीम पेंथर’ (Team Panther) पिछले एक साल से एक ऐसी कार डिजाइन (car design) कर रही हैं जो बहुत कम पेट्रोल पर काफी ज्यादा माइलेज देती है। इस कार को बनाने का आइडिया कॉलेज में पढ़ने वाली तीसरे साल की छात्रा मनुप्रिया वत्स (Manu Priya Vats) को आया था। वो ही इस टीम की मैनेजर और ड्राइवर भी हैं। 16 लड़कियों की इस टीम में से 9 लड़कियां फर्स्ट ईयर और 5 लड़कियां सेकंड ईयर की छात्राएं हैं। टीम में सभी लड़कियों में काम बंटे हुए हैं। खास बात ये है कि सभी लड़कियों की उम्र 18 से 21 साल के बीच है। ‘टीम पेंथर’ (Team Panther) को इस काम में कॉलेज के फैकल्टी एडवाइजर मनोज सोनी गाइड कर रहे हैं। इसके अलावा मनोज सोनी गाड़ी के डिजाइन को अप्रूवल दिलाने से लेकर इसकी शिपिंग तक का काम खुद देखते हैं। टीम की एक सदस्य आंचल सक्सेना (Aanchal Saxena) जो स्टीयरिंग विभाग को देख रही हैं, उनका कहना है कि ये प्रोजेक्ट पिछले साल से चल रहा है। पिछले साल उन्होने जो कार डिजाइन (car design) की थी उसे उन्होने ‘आइरिस 01’ नाम दिया था। इस कार ने पिछले साल अमेरिका के मिशिगन शहर (Michigan city of America) में आयोजित ‘एसएई सुपर माइलेज’ (SAE Super Milage) प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। वहां पर भारत की ओर से हिस्सा लेने वाली उनकी अकेली टीम थी। यहां पर आयोजित प्रतियोगिता में इनकी बनाई हुई गाड़ी का माइलेज 172 किलोमीटर प्रति लीटर था।

girl working on Irish 2.0 car

इस साल ‘टीम पेंथर’ (Team Panther) ने कार का दूसरा वर्जन ‘आइरिस 2.0’ (Irish 2.O) बनाया है। पिछली कार के मुकाबले इस कार में कई बदलाव कर और ज्यादा बेहतर बनाया गया है। जिसके बाद ‘आइरिस 2.0’ कार को ‘पेंथर टीम’ इस साल 16 मार्च से 19 मार्च तक सिंगापुर में आयोजित ‘शेल इको मैराथन एशिया-2017’ (Shell Eco-Marathon Asia-2017 in Singapore) प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली है। एशिया की ओर से हिस्सा लेने वाली उनकी अकेली महिला टीम है। सिंगापुर में आयोजित होने वाले 4 दिवसीय इस प्रतियोगिता को नाम दिया गया है ‘मेक द फ्यूचर’ (Make the Future)। ये प्रतियोगिता एशिया के अलावा अमेरिका, यूरोप और अफ्रीका में भी आयोजित होती है। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाली टीम को कम खपत वाला वाहन (fuel efficiency vehicle) बनाना होता है और उसकी माइलेज भी दूसरों से ज्यादा होनी चाहिए। आंचल ने  बताया कि

इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए 300 में से 120 टीमों का चयन हुआ था और हम उनमें से एक थे।

भारत से 15 और टीमों का भी इस प्रतियोगिता के लिए आवेदन किया था। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए इलेक्ट्रिक, गैसोलीन और हाइड्रोजन जैसी 3 कैटेगरी थी। आंचल के मुताबिक

हम गैसोलीन (Gasoline) कैटेगरी में हिस्सा ले रहे हैं, क्योंकि भारत में ज्यादातर गाड़ियां पेट्रोल या डीजल से चलती हैं। इस कारण हम एक ऐसी कार डिजाइन (car design) करना चाहते थे जो कम ईधन में ज्यादा माइलेज दे सके।

girl manufacturing Irish 2.0 car

‘टीम पेंथर’ (Team Panther) इस प्रोजेक्ट पर पिछले साल जुलाई से काम कर रही है। उन्होने इस गाड़ी में इस्तेमाल होने वाले सामान को खुद ही दिल्ली के चावड़ी बाजार, कश्मीरी गेट, चांदनी चौक की मोटर मार्केट से जाकर खरीदा। ऐसे में कई बार दुकानदार इन लड़कियों से कहते थे कि वो ये काम क्यों कर रही हैं क्योंकि ये काम लड़कों का है। मजबूत इरादों वाली इन लड़कियों ने कभी ऐसी बातों की परवाह नहीं की यही वजह है कि कार को कम्प्यूटर पर डिजाइन करने का काम हो या फिर ड्रिलिंग का या असेम्बल करने का काम, ‘टीम पेंथर’ से जुड़ी लड़कियों ने हर काम खुद ही किया। ‘आइरिस 2.0’ कार बनाने में आने वाला खर्च भी इन लड़कियों ने खुद ही मिलकर उठाया है, लेकिन इनके शानदार काम को देखते हुए ‘टीम पेंथर’ को इस प्रोजेक्ट के लिए अब कई स्पांसर भी मिल गये हैं। ‘टीम पेंथर’ को मॉडर्न इंडस्ट्री, टीवीएस मोटर, ओरियन्टल बैंक ऑफ कॉमर्स और यू-फलैक्स जैसी कंपनियां स्पांसर कर रहीं हैं।

girls testing Irish 2.O car at their workshop

अपनी कार की खूबियों के बारे में आंचल का कहना है कि

ये काफी हल्की कार है। ‘आइरिस 2.O’ (Irish-2.O) का वजन केवल 50 किलोग्राम है और ड्राइवर के साथ ये 150 किलोग्राम वजन तक खींच सकती है। सिंगल सीटर ये कार 3 पहियों पर चलती है और 1 लीटर में करीब 200 किलोमीटर का माइलेज देती है। एल्यूमिनियम से बनी इस कार का बाहरी ढांचा कार्बन फाइबर से बनाया गया है। इस कार शेप एरोडायनमिक (aerodynamic shape) है। इस वजह से इस कार में ईधन की खपत कम होती है।

कार में 35सीसी (35CC) का इंजन लगा है। इस कार में कार्बोनेटेड इंजन लगा है, अक्सर इस इंजन का इस्तेमाल घास काटने की मशीन में किया जाता है। लेकिन इन छात्राओं ने इस इंजन में कई बदलाव कर इसे अपनी कार में इस्तेमाल लायक बनाया है। वहीं कार में पतले टायरों का इस्तेमाल किया गया है, ताकि इसमें घर्षण (friction) कम हो। ‘टीम पेंथर’ (Team Panther) अपनी इस कार का डिस्प्ले दिल्ली के साकेत इलाके में मौजूद ‘सेलेक्ट सिटी वॉक’ (Select City Walk) मॉल में भी कर चुकी है। यहां आने वाले देशी विदेशी लोगों ने इन लड़कियों के इस काम की काफी हौसला अफजाई की। इनमें से कई लोग तो इनकी इस उपलब्धि से इस कदर प्रभावित थे कि उनका मानना था कि उनके इस काम को देखकर देश की दूसरी लड़कियां भी कार बनाने के लिए आगे आएंगी। फिलहाल ‘टीम पेंथर’ (Team Panther) का सारा ध्यान सिंगापुर (Singapore) में आयोजित होने वाली प्रतिगिता पर है और अगर वो उसमें सफल होती हैं तो उसके बाद वो मई में आयोजित होने वाली ‘एसएई सुपर माइलेज’ (SAE Super Milage) मिशिगन कार प्रतियोगिता में भी हिस्सा लेंगी।

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful