सम्राट अशोक में ‘ब्राह्मण’ और ‘रक्‍त पुष्‍प’ की दास्‍तान

सबर्ल्‍टन (Subaltern) साहित्‍य, दलित विमर्श के दौर में किसी उपन्‍यास का शीर्षक यदि ‘ब्राह्मण’ (The Brahmin) हो तो उसकी तरफ बरबस आकर्षण उत्‍पन्‍न होना स्‍वाभाविक है. यह आकर्षण उस वक्‍त चुंबक में तब्‍दील हो जाता है, जब पता चलता है कि इस ऐतिहासिक थ्रिलर के नायक का नाम ‘ब्राह्मण’ (The Brahmin) है और वह मगध साम्राज्‍य का सबसे प्रमुख गूढ़पुरुष यानी महाजासूस(Spymaster) है. अंग्रेजी के इस जबर्दस्‍त, हैरतअंगेज, सस्‍पेंस ऐतिहासिक थ्रिलर को लेखक रवि शंकर एटेथ(Ravi Shankar Etteth) ने लिखा है.

सम्राट अशोक के गद्दी पर बैठने के बाद 267 ईसापूर्व में कलिंग पर उसके महत्‍वाकांक्षी अभियान की पृष्‍ठभूमि में रचे गए इस थ्रिलर की शुरुआत में महल के हरम में एक कत्‍ल हो जाता है. उसके बाद उस कत्‍ल को कवर करने के लिए एक के बाद दूसरे कत्‍ल होते चले जाते हैं. कत्‍ल करने वाला हर कत्‍ल के साथ अपनी पहचान के रूप में एक रक्‍त पुष्‍प (Blood Flower) चुनौती के रूप में छोड़ देता है. युद्ध की तैयारियों में मशगूल अशोक इस पूरे मामले की जांच का हुक्‍म अपने स्‍पाईमास्‍टर ‘ब्राह्मण’ को देता है. ब्राह्मण के पास इस मर्डर मिस्‍ट्री को हल करने के लिए सिर्फ एक सप्‍ताह का समय होता है.

यह मगध साम्राज्‍य के सम्राट अशोक के उस दौर का उपन्‍यास है जब वह अपने सौतेले भाइयों का वध करके मगध के सिंहासन तक पहुंचता है. यह उस वक्‍त की कथा है जब श्‍यामवर्णी, गुस्‍सैल, रक्‍तपिपासु शासक किसी भी कीमत पर कलिंग पर कब्‍जा कर चक्रवर्ती सम्राट बनने का ख्‍वाब देख रहा है. कुल मिलाकर यह अशोक के चक्रवर्ती और महान बनने के पहले की दास्‍तान है. उसी के राजप्रसाद में कत्‍ल की घटनाएं उसको चिंतित कर देती हैं. उसका योग्‍य गूढ़पुरुष ब्राह्मण क्‍या इस मर्डर मिस्‍ट्री को सुलझा पाता है? क्‍या कलिंग, अशोक के युद्ध अभियान को रोकने के लिए षड़यंत्र कर रहा है? क्‍या ब्राह्मण खुद किसी षड़यंत्र का हिस्‍सा है या षड़यंत्र का फाश करने वाला? आखिर कौन है ब्राह्मण, जिस पर सम्राट को इतना भरोसा है? युद्ध और हिंसा के उस अराजक दौर में दूसरी तरफ महात्‍मा बुद्ध के शिष्‍य शांति का प्रचार-प्रसार भी कर रहे हैं.

ब्राह्मण’ का किरदार तमाम रहस्‍यों को समेटे हुए है. वह यदि मगध के सबसे गुप्‍त रहस्‍यों का एकमात्र गवाह और रखवाला है तो साथ ही राम-रावण युद्ध से उपजी विरासत का भी वारिस है. वह महान सिकंदर से भी किसी न किसी अर्थ में जुड़ा है? पर कैसे? ‘मर्डर मिस्‍ट्री’ समेत इन तमाम गूढ़ सवालों का जवाब जानने के लिए प्राचीन भारत के अब लगभग मिथकीय हो चुके दौर से आपको एक बार फिर इस उपन्‍यास के जरिये गुजरना होगा.

सिर्फ इतना ही नहीं मगध साम्राज्‍य के परिवेश, खान-पान और दौर को पूरे शिद्दत और सटीक अंदाज में पेश करने के साथ मर्डर मिस्‍ट्री को जिस तरह लेखक रवि शंकर ने गढ़ा है, उससे रोमांच के कारण रोंगटे खड़े होना स्‍वाभाविक है.

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful