OPINION

किसानों की मेहनत का मोल कौड़ियों के भाव

एक महीने पहले तक अपने खेतों में लहलहा रही लहसुन की फसल को देखकर खुश होने वाले मध्य प्रदेश के मंदसौर के किसानचंद्रप्रताप का गला आज लहसुन का नाम सुनते ही रुंध जाता है. उन्होंने बड़े जतन से बढिय़ा बीज और खाद देकर फसल उगाई थी. उपज भी उम्दा हुई. लेकिन मंडी में मिल रहे भाव को सुनते ही उनके पैरों ...

Read More »

डॉ. गिरीबाला जुयाल संवार रही गरीब और बंचित बच्चो का जीवन

देहरादून : 62 वर्षीय डॉ. गिरीबाला जुयाल कौलागढ़ की मजदूर बस्ती के 70 बच्चों का जीवन शिक्षा के दीपों से जगमग कर रही हैं। डॉ. जुयाल बस्ती के बच्चों के लिए कक्षाएं चलाती हैं। यहां सिर्फ शिक्षा ही नहीं, बल्कि बच्चे में छिपी प्रतिभा को भी निखारा जाता है। साथ ही डांस, गायकी, योग समेत कई अन्य गतिविधियों की विशेष ...

Read More »

गरीबी की मार से बुंदेलखंडी लड़कियों का हो रहा यौन शोषण

भोपाल: वर्तमान दौर में गरीबी सबसे बड़ा अपराध है, पेट की आग बुझाने के लिए बुंदेलखंड जाने वाले परिवारों को ऐसे दंश भोगना पड़ते हैं, जिनकी कल्पना मात्र से रूह कांप जाती है। यहां से रोजगार की तलाश में जाने वाले कई परिवार ऐसे हैं, जिनकी बेटियां यौन शोषण की शिकार हो चुकी हैं। इतना ही नहीं, कई परिवारों की युवतियों को तो ...

Read More »

खून से लथपथ कश्मीर को बचाने की जद्दोजहत !

कश्मीरी आतंकवाद से लड़ते हमारे सुरक्षा बलों का काम जैसे ख़त्म ही नहीं हो रहा. हमारी एजेंसियां एक लिस्ट बनाती हैं, उसे ख़त्म करती हैं, दूसरी तैयार हो जाती है. यह एक डरावना दृश्य है. अपनी नैसर्गिक सुंदरता के लिए विख्यात एक घाटी जैसे ख़ून से लथपथ है, वहां के नौजवानों के हाथों में पत्थर और उनकी आंखों में गुस्सा ...

Read More »

अनाथ होने के दर्द की छटपटाहट से अनाथो के लिए खोला स्कूल

अरुणाचल प्रदेश का खूबसूरत शहर है तवांग। प्राकृतिक खूबसूरती से भरपूर इस इलाके में ज्यादातर लोग खेती और पशुपालन से अपना गुजारा करते हैं। इसके अलावा पर्यटन भी यहां आय का प्रमुख स्रोत है। थुपटेन का जन्म तवांग के एक गरीब किसान परिवार में हुआ। बचपन झीलों और पहाड़ी वादियों के बीच बीतने लगा। पांच साल के हुए, तो पिताजी ...

Read More »

पाप-पुण्य जैसी अतार्किक बातों में क्यों फंसाता है धर्म?

ज़्यादातर धर्मों की यह मान्यता है कि आत्मा अनश्वर है और वह नश्वर शरीर के माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज कराए रहती है। इसी मान्यता के कारण पुनर्जन्म की अवधारणा अस्तित्व में आयी। पुनर्जन्म कर्मों के सिंचित फलों के आधार पर तय होता है, ऐसा धार्मिक ग्रंथों द्वारा बताया जाता है। मूर्तिपूजा, अवतारवाद, पुनर्जन्म, सिंचित कर्मों का फल जैसी मान्यताएं ...

Read More »

भारत में शिक्षा पद्धति की खामियों से बढ़ती बेरोजगारी

दिन-प्रतिदिन बेरोज़गारी की समस्या भयंकर रूप लेती जा रही है जिसका कारण हम बढ़ती जनसंख्या व युवाओं में कौशल की कमी को मान लेते हैं। प्रायः यह मान लिया जाता है कि बढ़ती जनसंख्या ही बेरोज़गारी का प्रमुख कारण है। और दूसरा, हमारे युवा उस कौशल से वंचित हैं जिसकी मांग रोज़गार क्षेत्र में ज़रूरी है। बढ़ती जनसंख्या का समाधान ...

Read More »

सोशल मीडिया ने बढ़ाई गुजरात के किसान की तिगुनी आय

अहमदाबाद। गुजरात के 21वीं सदी के एक किसान ने सोशल मीडिया का उपयोग कर खुद की आय तीन गुनी कर ली है। फसल और सब्जियों को वह फेसबुक, ट्विटर, वाट्सएप, इन्स्टाग्राम, यूट्यूब के जरिये बेचते हैं। सोशल मीडिया पर ही अपनी पैदावार की एडवांस बुकिंग भी करते हैं। गेहूं की फसल आने में अभी 10 माह बाकी हैं, लेकिन उन्होंने अभी ...

Read More »

इंसानियत का दुश्मन है बीजेपी यूथ विंग का नेता मनीष चंदेला

आपको याद है, अभी कुछ दिनों पहले दिल्ली के कालिंदी कुंज इलाके की एक झुग्गी में आग लगी थी. पूरी झुग्गी खाक हो गई. ये झुग्गी रोहिंग्या शरणार्थियों का शिविर थी. मनीष चंदेला नाम के एक शख्स ने सोशल मीडिया पर लिखा कि उसने इस कैंप को जलाया. मनीष चंदेला खुद को BJYM से जुड़ा बताता है. ऑल इंडिया मुस्लिम मजलिस-ए-मुशावरात (AIMMM) ...

Read More »

इस साल के आखिरी तक आएंगे 5000 नए स्टार्ट-अप

भारत में अभी तक कई स्टार्ट-अप आ चुके हैं, जिसमें कई बंद हुए हैं तो कई ऐसे भी हैं जिनमें आज करोडों का टर्नओवर हो रहा है. बताया जाता है कि स्टार्टअप से कई लोग अच्छे पैसे कमा रहे हैं और भविष्य में भी भारतीय इससे अच्छा पैसा कमा सकते हैं. अब स्टार्टअप की शुरुआत करने की सोच कर रहे ...

Read More »
error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful