OPINION

‘इंदु सरकार’ पर सियासी तकरार

nti-news-political-controversy-over-film-indu-sarkar

(जय प्रकाश जय ) फिल्में बनती तो राजनीति पर हैं लेकिन उसमें चाशनी तालियां पिटवाने के लिए मिलाई जाती है, न कि देश के राजनीतिक यथार्थ के पीछे खड़े जनद्रोहियों के चेहरे से नकाब खींचने के लिए। शायद इसीलिए राजनीतिक फिल्मों में जो हीरो हिट हो जाते हैं, राजनीति में शामिल होते ही उनकी छवि पिट जाती है। ‘राजनीति’ बनाने ...

Read More »

मोक्ष की कामना कर रही मोक्षदायिनी गंगा

सेंट्रल पाॅल्यूशन कन्ट्रोल बोर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, गंगा सफाई पर विभिन्न परियोजनाओं के मद में लगभग 20 हजार करोड़ रुपये पानी की तरह बहाए जा चुके हैं। फिर आज क्या हम इस स्थिति में पहुंचे हैं कि मोक्षदायिनी गंगा को स्वच्छ नदी का दर्ज दे सकते हैं? बिडंबना यह है कि राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण जैसी संस्था गंगा को स्वच्छ ...

Read More »

नींव के पत्थरों पर ‘पत्थरदिल’ सियासत!

भूपेश पंत.   साफ दर्ज है कि पिथौरागढ़ में ही नहीं बल्कि उत्तराखंड की धरती पर गांधी आंदोलन को शुरू करने का श्रेय स्व. प्रयाग दत्त पंत को ही जाता है. उन्होंने इलाहाबाद में बीए की डिग्री स्वर्ण पदक के साथ हासिल की और जनपद का पहला स्नातक होने का गौरव भी हासिल किया… इस लेख की शुरुआत में फिर ...

Read More »

चीन पर निगाहें, नेहरु पर निशाना!

  भूपेश पंत जो समाज अपने इतिहास के नायकों का सम्मान नहीं करता उसकी कोख से सिर्फ खलनायक ही जन्म लेते हैं. सोशल मीडिया पर इन दिनों चीन को लेकर एक अलग तरह का आक्रोश देखने को मिल रहा है. दिलचस्प बात ये है कि आभासी दुनिया के देशभक्त रणबांकुरे चीन के मौज़ूदा आक्रामक तेवरों को नेहरु की चीन नीति ...

Read More »

उत्तराखंड की परिसम्पतियों में उत्तर प्रदेश की दादागिरी

(सी. एम. ढोंडियाल) परिसंपत्तियों के बंटवारे में उत्तर प्रदेश 75% हिस्सेदारी ले उड़ा जबकि उत्तराखंड के हिस्से मात्र 25 फ़ीसदी परिसंपत्तियां आई है। यहां तक कि हरिद्वार में जहाँ सदियों से कुंभ होता रहा है वह जमीन भी उत्तराखंड नहीं बचा पाया। उत्तराखंड के अधिकारी न तो सही ढंग से अपनी परिसंपत्तियों को हासिल करने के लिए पैरवी कर पाए ...

Read More »

आदि शंकराचार्य का “कौमार्य”

nti-news-aadi-shankraya-charya-virgin

( सुशोभित शक्तावत) शंकर “ब्रह्मचारी” थे और मात्र 32 वर्ष की आयु में देह त्यागने तक आजीवन ब्रह्मचारी ही रहे। फिर भी, “किम् आश्चर्यम्”, कि अपने जीवन की सबसे कठिन परीक्षा का संधान उन्होंने “यौन अनुभूतियों” पर संवाद के माध्यम से किया था। यह चमत्कार भला कैसे संभव हुआ? अद्भुत कथा है। आदि शंकराचार्य “वेदान्ती” थे। उनके काल में मंडन ...

Read More »

इज़रायल, इस्लाम और हम !

1940 के दशक के बीच में अचानक हंगारी, पोलैंड, जर्मनी, ऑस्ट्र‍िया के यहूदियों ने पाया था कि वे एक क़तार में खड़े हैं और क़तार ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। यहूदियों के घरों में “गेस्टापो” के जवान घुस जाते और कहते, “बाहर निकलकर क़तार में खड़े हो जाओ!” सड़क पर चलती बसों को रोक दिया जाता ...

Read More »

तालाबों की हत्या का जिम्मेदार कौन ?

nti-news-who-will-hear-the-screams-of-breaking-ponds-

वर्तमान में देश के अधिकांश तालाब खत्म होने की कगार पर हैं। या तो वे सूख चुके हैं या उन पर गगनचुम्बी इमारतें बन गई हैं। तालाबों की हत्या की जा रही है। तालाब चीख रहे हैं, लेकिन उनकी सुनने वाले जिम्मेदार विकास की बेतुकी इबारत पढ़ाने पर आमादा हैं। राजस्व अभिलेखों के अनुसार प्रदेश में 659278 जलाशय दर्ज हैं, ...

Read More »

ये कैसा राष्ट्रवाद है !

nti-news-/nationalism-and-communal-harmony

(मोहन भुलानी, न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया ) ईद की खरीदारी कर लौट रहे जुनैद की हत्या ने एक बार फिर से हमें सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या धर्म इंसानियत से बड़ा है? इसमें कोई दो राय नहीं है कि विगत वर्षों में कुछ ऐसा माहौल तैयार हुआ है जिसने लोगों के बीच एक खाई बना दी है। ...

Read More »

हिमालय और पर्यटन एक दूसरे के पूरक

nti-news-tourism-in-himalaya-region

हिमालय पर्वत श्रंखला विश्व की सबसे ऊँची पर्वत श्रंखला है.  यह कई पर्वतों से मिलकर बनी एक पूर्ण पर्वतमाला है जैसे – धोलाधर,पीरपंजाल, महाभारत इत्यादि. यह भारत में उत्तर से लेकर उत्तर- पूर्व तक फैली हुई है.  लगभग 7 लाख वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र विस्तृत इस पर्वत माला में कई महत्वपूर्ण वन, वन्य-जीव जंतु, छोटी बड़ी नदियों के उद्गम स्थल, ...

Read More »

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful