OPINION

चमचमाते शहर की बेड़ियां, आंगन वीरान और गांव खाली हैं…

शहर हमें अपनी जड़ों से काट देता है. मोहपाश में जकड़ लेता है. मेरे पांव में चमचमाते शहर की बेड़ियां हैं. आंगन विरान पड़ा है. वो आंगन जिसमें पग-पैजनिया थिरकती थीं. जिसकी धूल-मिट्टी बदन पर लिपटी रहती थी. जहां ओखली थी. बड़े-बड़े पत्थर पुरखों का इतिहास बयां करते थे. किवाड़ की दो पाटें खुली रहती थीं. गेरुए रंग पर सफेद ...

Read More »

भारत की खाद्य सुरक्षा नीति पर अमेरिका का रणनीतिक हमला

आखिर खाद्य सुरक्षा और खेती-किसान की बेहतरी के लिए और परिस्थितियों के अनुरूप बनायी गई भारत की कृषि-खाद्य सुरक्षा नीतियों पर अमेरिका ने हमला शुरू कर दिया है. अब तक वह दबाव बना रहा था कि भारत को खाद्य सुरक्षा-कृषि सब्सिडी आवंटन को कुल कृषि उत्पाद मूल्य के 10 प्रतिशत के समतुल्य रखने के प्रस्ताव को मान लेना चाहिए. भारत ...

Read More »

पलायन से उत्तराखंड की लोकसंस्कृति खात्मे के कग़ार पर

पृथक उत्तराखंड राज्य निर्माण हेतु एक पीढ़ी ने अपना सर्वस्व गंवा दिया था अनेक नौजवानों ने  स्वर्णिम उत्तराखण्ड का सपना लेकर कुर्बानियां दी थी। विडंबना यह है कि राज्य निर्माण के पश्चात उत्तराखण्ड का विकास भी हुआ तो सिर्फ सपनों में, जिसका सबूत उत्तराखण्ड में जारी पलायन के आंकड़े देते हैं। आज राज्य में 1000 से भी अधिक गांव घोस्ट विलेज (भूतहा गांव) ...

Read More »

युवाओं के भविष्य के खिलवाड़ करती नफरत की राजनीति

एक जागरूक नागरिक सबसे ज़्यादा तनाव में रहता है और हमेशा चिंतन मनन करते रहता है कि देश में जो अमानवीय और अप्राकृतिक घटनाएं घट रही हैं वह क्यों घट रही हैं, इन सबके पीछे वजह क्या हैं? क्या लोग इतने निर्दयी और जाहिल हो गए हैं कि मानवीयता और नैतिकता उनके लिए महज़ दिखावा या शब्द भर रह गए ...

Read More »

पत्रकारिता के गिरते स्तर के लिए मीडिया संस्थान ही ज़िम्मेदार

लोकतंत्र में मीडिया का काम लोगों को जागरूक एवं शिक्षित करना होता है, लेकिन वर्तमान में मीडिया स्वंय ही जागरूकता एवं शिक्षा के अभाव से जूझ रही है। हाल ही में आयी ‘रिपोटर्स बिदाउट बॉर्डस’ नामक अन्तरराष्ट्रीय संस्था ने 180 देशों की सूची में भारतीय मीडिया को 138वां स्थान दिया। यह पिछले वर्ष के आंकड़ें से 2 स्तर घटा है साथ ही ...

Read More »

सर्वे में खुलासे- भारत की अधिकतर आबादी मांसाहारी

  केंद्र की मोदी सरकार अपनी विचारधारा के अनुरूप देश में शाकाहार को बढ़ावा दे रही है. भारतीय रेलवे ने हाल ही में महात्मा गांधी की जयंती पर सभी ट्रेनों में शाकाहार मैन्यू लागू किया था. यूपी में भी अवैध तरीके से चल रहे बूचड़खानों के खिलाफ कार्रवाई हुई और कई बूचड़खाने बंद कर दिए गए. देश के कई हिस्सों ...

Read More »

UP में अपराध रोकने में कितनी सफल हुई योगी सरकार?

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बने मुश्किल से 14 महीने हुए हैं और अभी से सरकार पर अपराध नियंत्रण में असफल होने के आरोप लगना शुरू हो गए हैं. प्रदेश की पिछली समाजवादी पार्टी सरकार के ऊपर भी ऐसे आरोप सरकार बनने के एक-दो साल बाद लगने लगे थे और अंततः, अपनी कुछ उपलब्धियों के बावजूद अपनी ...

Read More »

क्या कर्नाटक दोहराएगा बिहार का घटनाक्रम…?

कर्नाटक का ‘नाटक’ पूरे हिन्दुस्तान ने देखा. कर्नाटक विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी, यानी BJP पूर्ण बहुमत लाने में थोड़ा-सा चूक गई, लेकिन BJP के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येदियुरप्‍पा ने अपनी बात को सही साबित करते हुए 17 मई को बहुमत के बिना ही मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली.हालांकि कर्नाटक में सरकार बनाने का खेल अभी ...

Read More »

कर्नाटक ने फूंक ही दिया 2019 का बिगुल…

मीडिया और राजनीतिक पंडितों ने पहले ही भांप लिया था कि कर्नाटक चुनाव का असर 2019 के लोकसभा चुनाव तक जाएगा. आखिर वही हुआ. बीएस येदियुरप्पा की हरचंद कोशिश नाकाम होने के बाद अब एचडी कुमारस्वामी शपथ लेने जा रहे हैं. ऐसे बानक बन गए हैं कि इस समारोह में गैर-भाजपाई दलों के नेताओं की आकाशगंगा दिखेगी, और यही अद्भुत ...

Read More »

कैंसर के इलाज में रामबाण है पहाड़ी जंगली फल तिमला

उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में पाया जाने वाला मामूली फल तिमला बड़े काम का निकला है। जिस तिमला की फलों में कहीं भी प्रमुखता से गिनती नहीं की जाती, उसके भीतर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की रोकथाम के गुण मौजूद हैं। वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआइ) की केमेस्ट्री डिविजन के शोध में पता चला कि तिमला के तेल में चार ऐसे ...

Read More »
error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful