Templates by BIGtheme NET

ECONOMY

मज़दूरों के शोषण का अड्डा है गारमेंट इंडस्ट्री

(मोहन भुलानी ) दुनियाभर की गारमेंट इंडस्ट्री कितने बूम पर है यह अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि आज व्यापार की दृष्टि से गारमेंट इंडस्ट्री, ऑइल इंडस्ट्री के बाद दूसरे स्थान पर है और इसका सालाना कारोबार 3 ट्रिलियन डॉलर से भी अधिक हो चुका है। हर वर्ष हम लोग 80 बिलियन नए कपड़े खरीदते हैं, जो 2 दशक ...

Read More »

जाति व्यवस्था को बढ़ावा देता आरक्षण

(दीपा धामी ) आधुनिक हिन्दुस्तान के सबसे विवादित विषयों में से एक है, आरक्षण। आरक्षण सरकारी नौकरियों में और सरकारी शिक्षण संस्थानों में। गौरतलब है कि हमारे संविधान के मुताबिक़ शैक्षणिक और सामाजिक पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण का प्रावधान है। इस तकनीकी लफ्ज़ “शैक्षिक और सामजिक पिछड़ेपन” का सरल अर्थ है “जाति” के आधार पर आरक्षण। क्योंकि ये माना ...

Read More »

कोचिंग हब से सुसाईड सिटी कैसे बना कोटा?

(नीरज त्यागी ) पिछले 5 सालों में 57 आत्महत्याओं के बाद कोटा का हॉस्टल एसोसिएशन, कुम्भकर्ण की नींद से जाग गया। ख़बर आयी कि अब कोटा के हॉस्टलों के सीलिंग फ़ैन्स में गुप्त ‘सायरन’ और ‘स्प्रिंग्स’ लगाए जाएंगे। माना जा रहा है कि इससे पंखे से लटक कर जान देने वालों पे लगाम लगेगी। दरअसल, पंखा बनाने वाली कंपनियों से ...

Read More »

जीवन की कठिनाइयों को झेलने की ट्रेनिंग जरूरी

(सुनील सरीन ) जीवन उतना सरल नहीं है जितना आज के किशोरों को लगता है. एक समय था जब किशोरों को अपने घरों में ही भाईबहनों व रिश्तेदारों के साथ प्रतियोगिता का सामना करना पड़ता था. हां, उन दिनों घर आज की तरह सूने नहीं होते थे. फिर भी सत्य यह है कि किशोर आज ज्यादा पा रहे हैं और ...

Read More »

UP- उत्तराखंड में अब जीत के बाद – चुनौतियां हजार

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भारतीय जनता पार्टी और पंजाब में कांग्रेस को जनता ने बहुमत से सरकार बनाने का मौका दे कर चुनौती दी है कि अब वे इन प्रदेशों को विकास की राह पर आगे ले जाएं. इन दलों ने चुनाव में जनता से जो वादे किए थे, उन को पूरा करें. उत्तर प्रदेश में अब तक भारतीय ...

Read More »

डेयरी उद्योग का काला सच, आपकी रूह कांप जायेगी

“कोई भी गाय मनुष्यों के उपभोग के लिए खुशी-खुशी दूध नहीं देती। पशुओं के प्रति क्रूरता, रक्तपात और पशु-वध अक्सर गैर-शाकाहार, मांस की खपत और चमड़े के उद्योग से जुड़ा होता है, लेकिन संपन्न भारतीय डेयरी उद्योग के खिलाफ शायद ही कभी कोई आवाज़ उठाई जाती है। इस उद्योग में मवेशियों का न सिर्फ शोषण होता है, बल्कि उन्हें अमानवीय परिस्थितियों ...

Read More »

2020 तक इंडियन फैशन मार्केट $30 बिलीयन तक पहुंचने की संभावना

भारत का फैशन मार्केट सिर्फ मैट्रो सीटीज़ में ही नहीं, बल्कि दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहरों में भी तेजी से अपना आकार बड़ा कर रहा है, जिसके चलते आने वाले समय में रिटेल कंपनियों के लिए कारोबार की और अधिक संभावनाएं बढ़ जायेंगी, जिसमें डीजिटल शॉपिंग अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। जिस तरह से देश में हर दिन नये-नये तरह ...

Read More »

एटमी संयंत्रों की सुरक्षा का सवाल

पिछले दिनों परमाणु ऊर्जा विभाग द्वारा मुंबई स्थित भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (बार्क) में आयोजित पांच दिवसीय कार्यशाला में भारत के परमाणु वैज्ञानिकों के इस दावे पर- कि हमारे यहां किसी भी परमाणु हादसे की आशंका बेहद कम है और देश के परमाणु रिएक्टर बेहद सुरक्षित हैं- भरोसा करना इसलिए कठिन है कि न सिर्फ दिल्ली के मायापुरी में हुई ...

Read More »

तीन तलाक: धर्म के नाम पर ‘कुरीति’

डॉ. शुभ्रता मिश्रा भारत में नारियों से संबंधित सामाजिक मुद्दों की जीत हमेशा धार्मिक कुरितियों पर भारी पड़ती आई है। भारत के इतिहास ने ऐसे बहुत से सामाजिक मुद्दों को विजयी होते देखा है, फिर चाहे वह सती प्रथा रही हो, बाल विवाह रहा हो, हिन्दु विधवाओं की मुण्डन प्रक्रिया रही हो या फिर स्त्री शिक्षा की बंदिशें रही हों। ...

Read More »

बीजेपी के ‘मिशन 2019’ का पहला मास्टरस्ट्रोक

जिन योगी आदित्यनाथ को विवादित छवि के कारण प्रधानमंत्री मोदी ने अपने केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह देने लायक नहीं समझा था, ढाई साल के बाद मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह उन्‍हें देश के सबसे बड़े सूबे की बागडोर सौंपने पर सहमत हो गए. सवाल ये है कि अब तक योगी के नाम पर ना-नुकुर करने वाले बीजेपी के एजेंडे ...

Read More »
error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful