Templates by BIGtheme NET
nti-news-Big-reveal-about-RS-Yadavs-Empire

ARTO यादव की अरबों की काली कमाई का हुआ खुलासा

चंदौली पुलिस और विजिलेंस की अब तक की जांच में पता चला है कि ‘आरएस ट्रवेल्स’ नाम से यादव की पंद्रह वोल्वो बसें वाराणसी से दिल्ली समेत विभिन्न शहरों के लिए चलती हैं।

 कई जगह खरीदी मंहगी जमीन

अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस एक वोल्वो की कीमत करीब पचास लाख है। बाबतपुर में 35 बिस्वा जमीन के बारे में भी पता चला है। इस जमीन पर एक कंपनी के साथ मिलकर कारोबार करने की योजना थी।

सेंट्रल जेल रोड पर तीन बिस्वा, पहड़िया के अनमोल नगर में 12 बिस्वा जमीन भी आरएस यादव ने अपनी इस काले करोबार के माध्यम से खरीद रखी है। इसके लंका और रोहनिया क्षेत्र में भी यादव की जमीन के बारे में पता चला है, जिसकी पड़ताल की जा रही है।

बड़े शहरों में मंहगे फ्लैट्स
दिल्ली, नोएडा और लखनऊ में आरएस यादव के महंगे फ्लैट हैं। पुलिस सूत्रों की मानें तो यादव के एक पेट्रोल पंप होने की भी जानकारी हाथ लगी है। उससे जुड़े तथ्य खंगाले जा रहे हैं।
अब तक सामने आई संपत्तियों में कुछ यादव के परिवार के सदस्यों के नाम और कुछ रिश्तेदारों और दोस्तों के नाम हैं। इनमें वाराणसी के छावनी क्षेत्र में करीब पचास करोड़ की लागत का होटल वेस्ट इन भी शामिल है।

दो आलीशान मकान
वाराणसी और गोरखपुर में यादव के आलीशान मकान और अन्य संपत्तियों की परत दर परत खंगाली जा रही है। आरएस यादव से जुड़े लोगों की संपत्तियों का ब्योरा भी जुटाया जा रहा है।

चालान के नाम पर वसूली करता था आरएस यादव
चंदौली जिले का निलंबित एआरटीओ आरएस यादव एक वर्ष तक यहां तैनात रहा। वाहन स्वामियों में उसकी पहचान दबंग एआरटीओ के रूप में थी। वह आए दिन पैसेंजर टैक्स, रोड टैक्स के नाम पर वाहनों का चालान काटने के बाद सुलह-समझौते के नाम पर धन वसूली करता था।

अवैध वाहनों को परमिट देने के नाम पर भी मोटी रकम ऐंठता था। वर्ष 1999 से 2000 तक आरएस यादव जनपद के एआरटीओ के पद पर तैनात रहा।

ईमानदारी के करते थे अवैध काम
एआरटीओ विभाग के सूत्रों की मानें तो अपने एक वर्ष की तैनाती के दौरान बहुत कम समय ही कार्यालय में बैठता था। अधिकांश समय सड़कों पर वाहनों के कागजात की जांच के साथ किसी न किसी बहाने चालान काटना उसकी आदत थी।

रोजाना दर्जनों वाहनों का चालान करता था। चालान के बाद कार्यालय पहुंचे वाहन स्वामियों से मोटी रकम वसूलना इसके लिए आम बात थी। खासकर उस दौरान बिना परमिट के संचालित होने वाले वाहनों पर उसकी नजर रहती थी।

नियमों की आड़ में वसूली
वाहनों को पकड़ने के बाद सीज कर देता था। सीज करने के बहाने उन वाहन स्वामियों को परमिट देने के नाम पर वसूली करने में वह माहिर था। एआरटीओ आरएस यादव राजस्व वसूली करने के साथ ही अपनी जेब भी भरता था। एआरटीओ ने जनपद से एक वर्ष में लाखों रुपये की काली कमाई की।

सफेदपोशों से थी गहरी पैठ

गलत तरीके से अकूत संपत्ति खड़ा करने के आरोपी चंदौली के एआरटीओ प्रवर्तन आरएस यादव की शासन में अच्छी पकड़ थी। वह बसपा शासन में प्रभाव रखने वाले एक आईएएस (अब सेवानिवृत्त) का चहेता था। आजमगढ़ से संबंध रखने वाले अधिकारी के संपर्क में होने के कारण आरएस यादव का अपने विभाग में भी वर्चस्व कायम था। इसकी वजह से कोई विरोध नहीं करता था। अधिकारी से उसके इतने करीबी संबंध थे कि उनके घर पड़ने वाले आयोजनों का खर्च भी उठाता था।

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful