Templates by BIGtheme NET

कर्मकांडो के नाम पर महिलाओं को डराने का धंधा

(वन्दना राय, बिहार )

“सारे धार्मिक उत्तरदायित्वों को निभाने का ज़िम्मा स्त्रियों को जो मिला है और सारे अधिकारों को भोगने का हक़ पुरुषों को।”

ईश्वर को लेकर इतना डर! अपनी इतनी ऊर्जा, इतना समय और जो कुछ भी कमाते हैं उसका एक बड़ा हिस्सा भगवान के नाम पर होने वाले तमाम कर्मकांडो में खर्च करते हुए मैंने यहां भागलपुर की सामाजिक रूप से पिछड़ी निम्नवर्ग की महिलाओं में खूब देखा है। होता तो हर जगह है, पर शायद यहां थोड़ा ज़्यादा है। वो अपने परिवार को पालने के लिए या घर के खर्चे के लिए दिनभर भागदौड़ कर स्वस्थ या बीमारी की हालत में काम करती हैं। फिर भी यह उनके घर के खर्चे के लिए पर्याप्त नहीं पड़ता है, साथ ही इस कमाई का एक हिस्सा हर हफ्ते की किसी ना किसी पूजा में ज़रूर खर्च हो जाता है।

एक पूजा में कम से कम दो से तीन सौ रुपये खर्च होते हैं पर फिर भी इनको लगता है कि ये ज़रूरी है। लेकिन इस व्रत और उपवास का क्या मतलब जो उनकी बुद्धि की तार्किक क्षमता को मारकर उनको दिन ब दिन कुंद बनाता जाए। अपने प्रति होने वाले अन्याय को भी वो भगवान की पूजा और श्रद्धा में अपनी कमी या खामी मानकर खुद को ही ज़िम्मेदार माने। समाज और परिवार में फैली हुई विषमताओं को वो स्वाभाविक मानने लगे। घर में महिलाओं की दोयम दर्ज़े की स्थिति और पुरुष की श्रेष्ठता को बिना सवाल उठाए स्वीकार कर ले। कभी पिता, कभी भाई और कभी पति की आश्रिता मात्र बनना उसको सहज स्वीकार्य हो। यहां तक कि पति-पत्नी के बराबरी और सामंजस्य के रिश्ते में आज भी ये पति की मालिक की स्थिति को श्रेयस्कर मानती हैं। चाहे वह इन्हें कितना भी मारे-पीटे, चाहे वह इनकी ज़िन्दगी का केवल जल्लाद ही क्यों ना हो। पर तार्किक रूप से सोचकर उस पर आवश्यक प्रतिक्रिया देना धर्म और रिवाज विरुद्ध है।

पहली बार मैंने किसी स्त्री को बड़े सुकून के साथ ये कहते हुए सुना, “अच्छा हुआ दीदी हमरा आदमी खत्म हो गया। जब से वो गया हम  आज़ाद हो गए और गया भी तो तीन छोटी छोटी बेटियां छोड़ के। लेकिन दीदी फिर भी हम दोनों बेटी लोग की शादी कर दिए हैं, दोनों अपने अपने घर हैं, दोनों के दो-दो बच्चे हैं। सब भगवान की पूजा-पाठ और धर्म-कर्म का ही फल है ना, नहीं तो हमे बस का कहां था इतना सब करना।”

अब उसको लगता है कि उसके साथ जो कुछ हुआ, वो उसके धर्म-कर्म, कर्मकांडो और अंधविश्वासों के कारण हुआ है, जबकि इससे उसकी ऊर्जा ही ज़ाया हुई है। मैंने पूछा कि आपने अपनी बेटियों को क्यों नहीं पढ़ाया? इतनी जल्दी शादी क्यों कर दी? तो इस पर उसका जवाब था, “दीदी इतना पैसा कहां था कि बेटी लोग को पढ़ाते।”

उसके पास हर पूजा पर खर्च करने के लिए तीन सौ रूपये थे, पर अपनी बेटियों को स्कूल भेजने के लिए कुछ पैसे नहीं। ऐसा क्यों? क्योंकि अगर वो पूजा ना करती तो अनर्थ ही हो जाता। इस अनर्थ के डर ने उसे वो सब नहीं करने दिया जो उचित और ज़रूरी था, बल्कि वो सब करवाया जो अनुचित और गैरज़रूरी है। अपनी सभी बेटियों की उसने 13-14 साल की उम्र में शादी करा दी और ये सब उसने अकेले किया। जो स्त्री अपने पति की लाखों गालियां सुनती, उससे पिटती थी पर जुबान नहीं खोल पाती थी, क्योंकि उसे समाज का डर था कि पति के सामने कैसे आवाज उठा सकती है।

इस तरह से देश के अमूमन सभी हिस्सों में डर का बहुत बड़ा धंधा चल रहा है। कहीं ये डर सालों से चली आ रही अतार्किक धार्मिक मान्यताओं के नाम का है, तो कहीं झूठे आडम्बरों और कर्मकांडो के नाम का- जो सबसे ज़्यादा स्त्रियों के ही जीवन को प्रभावित करता है। सारे उत्तरदायित्वों को निभाने का ज़िम्मा स्त्रियों को जो मिला है और सारे अधिकारों को भोगने का हक़ पुरुषों को।

स्त्रियों में भी निम्न वर्ग (पिछड़े वर्ग) के कम पढ़े-लिखे समाजों की महिलाओं पर ये ज़िम्मेदारी सबसे ज़्यादा है। पहले तो इन वर्गों को धर्म-कर्म और शिक्षा-दीक्षा से दूर रखने की कोशिश की गई। सदियों तक वे इसके पात्र ही नहीं माने गए और जब अपनी लड़ाइयां खुद लड़कर उन्होंने इसे हासिल किया तो भी इन्हें धर्म के नाम पर कर्मकांडो और आडम्बरों के जाल में फंसा दिया गया। कुछ को संस्कृतिकरण की प्रक्रिया में उन्होंने खुद अपनाया पर उसमें तार्किकता के अभाव के कारण वे आज भी लकीर के फकीर बने हुए हैं।

यही कारण है यहां आज भी धर्म के नाम पर अतार्किकता बहुत देखने को मिलती है। दैनिक पारिश्रमिक (दिहाड़ी) पर काम करने वाले या अस्थायी छोटी-मोटी नौकरी करने वाले इस वर्ग के लोगों को भले  ही कितनी मुश्किल से उनकी नौकरी मिली हो पर सावन का महीना आते ही  कांवड़ यात्रा के लिए एक महीने देवघर में बाबा के धाम लेट-लेट के या नंगे पांव बम-बम भोले करते हुए जाना ही है। चाहे भले ही वो नौकरी छूट जाए। भले ही वापस आने के बाद वो बिस्तर पर पड़ जाए। भले ही 2-4 महीने उनके परिवार को पेट काटकर जीना पड़े पर धर्म के नाम पर यह झूठा ढकोसला उनको करना ही है।

 

About News Trust of India

News Trust of India is an eminent news agency

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful