nti-news-yogi-adityanath-chief-minister-up

उम्मीद के किस मोर्चे पर फेल हुई योगी सरकार !

सत्ता में आते ही योगी सरकार अपने पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार में हुए कार्यों को निशाने पर लिया तो उनके 48 परियोजनाओं पर जांच बैठा दी। महीने भर में जांच पूरी होने का दावा करने वाले मंत्री और मुख्यमंत्री सौ दिनों के बाद भी किसी भी कार्रवाई तक नहीं पहुंच पाए हैं।
हलांकि इन सौ दिनों की सरकार में योगी ने किसानों की कर्जमाफी से लेकर शिक्षा और स्वास्थ्य की तरफ जरूर ध्यान दिया। जिसमें अभी भी जनती को सरल सुविधा मिलने का इंतजार है। योगी के 15 जून तक सड़कों को गढ्ढा मुक्त करने के दावे की भी कमोवेश वही हालत है। 
अपराध के मोर्चे पर अबतक फैल नजर आई योगी सरकार

मुख्यमंत्री योगी ने सत्ता और प्रशासन की सहायता से सूबे में रामराज ले आने की मुहिम के सात ही राज्य भर में कुल 1200 अधिकारियों को इधर से उधर किए। भ्रष्टाचार को लेकर कड़े निर्देश भी दिए। लेकिन अबतक जनता को जिस मोर्चे पर योगी से ज्यादा उम्मीद थी उस पर पूरी तरह से फेल नजर आ रही है।
राज्य में बढ़ते क्राइम ग्रॉफ ने इन सौ दिनों में पिछले सभी रिकार्ड तोड़ते नजर आ रहे हैं। अगर पिछले साल की तुलना करें तो…

  1. मार्च-अप्रैल 2016- 41 बलात्कार
  2. मार्च-अप्रैल 2017- 179 बलात्कार
  3. मार्च-अप्रैल 2016- 101 हत्या
  4. मार्च-अप्रैल 2017- 240 हत्या
  5. मार्च-अप्रैल 2016-  67 लूटपाट
  6. मार्च – अप्रैल 2017- 273 लूटपाट

उप्र पुलिस विभाग ने जो आकंड़े अपने रजिस्टरों में दर्ज किए हैं उन्हें देखें तो पता चलता है कि सूबे में बीते साल की अपेक्षा इस साल डकैती के 17 ज्यादा मामले रिपोर्ट किए गए। लूट की 206 ज्यादा घटनाएं दर्ज हुईं। बीते साल की अपेक्षा इस साल 139 हत्याएं भी ज्यादा हुईं। बलात्कार की घटनाएं भी ज्यादा दर्ज की गईं। जाहिर है अपराधियों का हौसला बढ़ा है।

घटी सैलानियों की संख्या
सूबे में अपराध को देखते हुए इस साल गर्मी की छुट्टियों में यूपी के तीर्थ स्थलों और पर्यटन स्थलों पर आने वाले सैलानियों की संख्या में भारी गिरावट आई है। पर्यटन विभाग की माने तो इस बार सैलानियों की संख्या में 16 फीसद तक की गिरावट दर्ज की गई है।

योगासन में जुटी योगी सरकार
राज्य में हो रहे क्राइम के इतर योगी सरकार विश्व योग दिवस की तैयारियों में लगी है। 21 जून की तैयारियों के लिए सरकार सभी मंत्री व अधिकारी एड़ी-चोटी का जोर लगा दिए हैं। इस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का लखनऊ में रहने के निर्णय के बाद से अधिकारी व सरकार तैयारी में कोई भी कमी रखने के मूड में नहीं हैं।

अखिलेश की परिजोजनाओं पर प्रमुख जांचें

  1. नोएडा में भूमि आवंटन और निर्माण कार्य व जमीन अधिग्रहण घोटाले की जांच
  2. यूपीएसआईडीसी में जांच
  3. शिक्षक भर्ती जांच
  4. लखनऊ विकास प्राधिकरण में कार्यो की जांच
  5. आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे की जांच
  6. खनन घोटाले की जांच
  7. सहकारिता में भर्ती जांच,
  8. जल निगम नगर निगम में भर्ती जांच,
  9. स्वास्थ्य विभाग में भर्ती जांच
  10. परिवहन निगम में भर्ती जांच

समेत करीब ४८  परियोजनाओं और कार्यों की जांचें योगी सरकार ने शुरू कर दी हैं।

About News Trust of India

News Trust of India न्यूज़ ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!

ăn dặm kiểu NhậtResponsive WordPress Themenhà cấp 4 nông thônthời trang trẻ emgiày cao gótshop giày nữdownload wordpress pluginsmẫu biệt thự đẹpepichouseáo sơ mi nữhouse beautiful